ताज़ा खबर
 

जब हेमा मालिनी ने संसद परिसर में अपनी छतरी में विपक्ष के इस नेता को बचाया

बॉलीवुड की ड्रीम गर्ल व बीजेपी सांसद हेमा मालिनी की एक बेहद खूबसूरत तस्वीर सामने सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। इस तस्वीर में उनके साथ नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला हैं। दोनों संसद के बाहर बारिश से बचने के लिए एक ही छतरी का इस्तेमाल करते दिखे।

बीजेपी सांसद हेमा मालिनी और फारूक अब्दुल्ला (फोटो सोर्स: ट्विटर@PoulomiMSaha)

सावन शुरू होते ही बारिश ने देश की राजधानी को तरबतर कर दिया है। आसमां से गिरती बूंदें लोगों का मन मोह रही हैं। इसी रिमझिम के बीच संसद के गलियारों से एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। इस फोटो में बॉलीवुड की ड्रीम गर्ल व बीजेपी सांसद हेमा मालिनी और नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला एक साथ नजर आ रहे हैं। इस दौरान दोनों ही नेता बारिश से बचने के लिए एक ही छाते के नीचे दिखे। वहीं, इस खूबसूरत तस्वीर का जवाब फारूक के बेटे उमर अब्दुल्ला ने अलग ही अंदाज में दिया है।

यह है मामला: बता दें कि दिल्ली में 2 दिन से लगातार रिमझिम हो रही है। ऐसे में हेमा मालिनी छतरी लेकर संसद पहुंची थीं। वहीं, जम्मू-कश्मीर के दिग्गज नेता फारूक अब्दुल्ला बारिश से बचने के लिए तैयार नहीं दिखे। इसके बाद हेमा मालिनी ने फारूक अब्दुल्ला को बारिश से बचाने के लिए अपनी छतरी के नीचे ले लिया। दोनों की यह तस्वीर सोशल मीडिया पर काफी पसंद की जा रही है।

National Hindi News, 18 July 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

विरोधी दल से ताल्लुक रखते हैं दोनों सांसद: बता दें कि हेमा मालिनी मथुरा से बीजेपी की सांसद हैं। वहीं, नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला श्रीनगर लोकसभा सीट से संसद पहुंचे हैं। दोनों ही कट्टर विरोधी दलों से ताल्लुक रखते हैं। इसके बावजूद जब वे एक ही छतरी के नीचे नजर आए तो लोगों ने इसकी काफी तारीफ की।

Bihar News Today, 18 July 2019: बिहार की बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

उमर अब्दुल्ला ने जवाब में किया यह ट्वीट: ड्रीम गर्ल हेमा मालिनी के संग पिता फारूक की खूबसूरत तस्वीर पर उमर अब्दुल्ला ने भी अजब जवाब दिया है। उन्होंने इंडिया टुडे की पत्रकार पोलोमी साहा द्वारा ट्वीट की गई तस्वीर को शेयर किया। साथ ही, एक स्माइली और छतरी की इमोजी भी लगाई। कुछ लोगों ने सोशल मीडिया पर लिखा है कि सावन के महीने में बारिश ने सियासी गर्मी कम कर दी है।

Next Stories
1 मुस्लिम महिला की आपबीती: हनुमान चालीसा पाठ में शामिल हुई तो मिली जान से मारने की धमकी, गाली देकर कहा- छोड़ दे इलाका
ये पढ़ा क्या?
X