scorecardresearch

आजमगढ़ में जनता दरबार के साथ ही शूटिंग भी, बीजेपी सांसद निरहुआ बोले- निर्माताओं को यहीं शूटिंग के लिए भिजवा दी थी सूचना

Dinesh Lal Yadav Nirahua: निरहुआ ने कहा कि शीतकालीन सत्र शुरू होने में तीन महीने बाकी हैं और इन तीन महीने हम जनता के बीच ही रहेंगे। इस दौरान कई फिल्में और वेब सीरीज बनेगी। आजमगढ़ के साथ पूर्वांचल के कलाकारों को काम मिलेगा।

आजमगढ़ में जनता दरबार के साथ ही शूटिंग भी, बीजेपी सांसद निरहुआ बोले- निर्माताओं को यहीं शूटिंग के लिए भिजवा दी थी सूचना
BJP सांसद दिनेश लाल यादव निरहुआ (Photo Source- facebook)

Dinesh Lal Yadav Nirahua: उत्तर प्रदेश की आजमगढ़ लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी (BJP) के सांसद दिनेश लाल यादव निरहुआ अपने संसदीय क्षेत्र आजमगढ़ पहुंचे हुए हैं। जहां वह जनता की फरियाद सुनते दिखे। उन्होंने कहा कि निर्माताओं को यहीं शूटिंग के लिए सूचना भिजवा दी थी।

भाजपा सांसद दिनेश लाल यादव ने कहा कि सीएम योगी आदित्यनाथ ने आज़मगढ़ में फिल्म की की शूटिंग करने की बात कही थी। ऐसे में हम फिल्मों की शूटिंग भी कर रहे हैं और यहीं जन-सुनवाई भी कर रहे हैं। इससे फायदा है कि हम अपना भी काम और जनता का भी काम कर रहे हैं। निरहुआ ने कहा कि यहां आने वाले किसी भी व्यक्ति को जो भी समस्या आ रही है, तुरंत उसे टाइप किया जा रहा है और उसका प्रिंट निकालकर संबंधित अधिकारी और विभाग को भेजा जा रहा है और फोन पर बात कर उसका निदान किया जा रहा है।

निरहुआ ने फिल्म शूटिंग की लोकेशन पर ही जनता दरबार लगाया था। लोकप्रिय भोजपुरी अभिनेता ने कहा कि जब हम चुनाव के दौरान आए थे तो हमने कहा भी था कि खेत में एक तरफ कंप्यूटर लगेगा और एक तरफ शूटिंग होगी और वही हो रहा है। उन्होंने आज़मगढ़ में फिल्म सिटी का निर्माण कराने की भी बात कही।

अखिलेश यादव को बताया निराश- हताश: इस दौरान मीडिया से बात करते हुए बीजेपी नेता ने कहा, “पार्टी के किसी कार्यकर्ता, किसी नेता या किसी मंत्री को प्रलोभन देकर वह कुछ नहीं कर पाएंगे। अखिलेश यादव से कहिए कि अगर वो हताश हो चुके हैं तो अब धीरे से अपनी पार्टी बंद कर वो सन्यास ले लें, अब और कोई रास्ता उनके पास नहीं बचा है।”

अखिलेश जिन्नावादी राजनीति करते हैं: बीजेपी सांसद ने अखिलेश यादव पर हमला बोलते हुए कहा, “जिस तरह की उनकी राजनीति है, जिस तरह का उनका संस्कार है, बाप से माइक चीन लेना, बाप की साइकिल छीन लेना, चाचा को घर से निकाल देना, भाई को आजमगढ़ भेज कर बलि पर चढ़ा देना। ये कैसी राजनीति है?” उन्होंने आगे कहा, “ये वो राजनीति है जिसे जिन्ना करते थे कि देश बांट दो लेकिन हमें कुर्सी चाहिए। ये जिन्नावादी राजनीति इनको ही शोभा देती है और अखिलेश वही करते हैं।” निरहुआ ने कहा कि वो हमें ना सिखाएं कि हमें क्या करना चाहिए।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 09-09-2022 at 10:16:26 pm
अपडेट