ताज़ा खबर
 

बीजेपी विधायक ने अंबेडकर की मूर्ति को दूध से नहलवाया, फिर पहना दिए भगवा कपड़े

टांडा से भाजपा विधायक संजू देवी व भाजपा कार्यकर्ताओं ने यहां के थिरुआ इलाके में स्थित बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा को पहले मंत्रोच्चार के से दूध से नहलाया और उसके बाद चंदन टीका लगाकर डॉ. भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा को भगवा वस्त्र पहना दिए।

उत्तर प्रदेश में पहले भी इस तरह के मामले को लेकर भाजपा निशाने पर आ चुकी है। (image source-facebook) (प्रतीकात्मक तस्वीर)

उप-चुनावों में मिली हार को भाजपा अभी तक पचा भी नहीं पायी है कि एक नए विवाद से उसकी परेशानियों में और इजाफा हो सकता है। दरअसल उत्तर प्रदेश के टांडा में एक भाजपा विधायक द्वारा बाबा साहब अंबेडकर की मूर्ति को दूध से नहलाकर उसे भगवा वस्त्र पहनाने का मामला सामने आया है। बता दें कि टांडा से भाजपा विधायक संजू देवी व भाजपा कार्यकर्ताओं ने यहां के थिरुआ इलाके में स्थित बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा को पहले मंत्रोच्चार के से दूध से नहलाया और उसके बाद चंदन टीका लगाकर डॉ. भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा को भगवा वस्त्र पहना दिए। भाजपा विधायक ने पीएम मोदी के स्वच्छ भारत अभियान के तहत यह काम किया है। पहले भाजपा विधायक संजू देवी ने इलाके में सफाई अभियान चलाया था।

भाजपा विधायक द्वारा डॉ. भीमराव अंबेडकर को भगवा कपड़े पहनाए जाने पर विवाद हो सकता है। बता दें कि इससे पहले भी उत्तर प्रदेश के बंदायू में इसी तरह की एक घटना पर विवाद हुआ था। दरअसल बीते माह अप्रैल में बंदायू के डुगरइया कस्बे में बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा को भगवा रंग में रंग दिया गया था। जिस पर दलितों ने आपत्ति जताते हुए बाबा साहब की प्रतिमा को फिर से नीले रंग में रंग दिया। दलित नेताओँ ने इस घटना पर नाराजगी जताते हुए कहा था कि राज्य की भाजपा सरकार ने कई बिल्डिंगों को भगवा रंग में रंगने के बाद अब अंबेडकर की प्रतिमा को भी भगवा कर दिया है, जोकि बिल्कुल भी स्वीकार्य नहीं है। यदि प्रतिमा को जल्द ही नीले रंग में नहीं रंगा गया तो वह जिला प्रशासन के खिलाफ आंदोलन करेंगे। इसके बाद बाबा साहब की प्रतिमा को तुरंत ही नीले रंग में रंग दिया गया था। हालांकि भाजपा का कहना था कि दलित नेताओं ने ही इस प्रतिमा को पसंद किया था।

इससे पहले एससी-एसटी एक्ट में बदलाव को लेकर भी दलितों ने देशभर में हिंसक आंदोलन किया था। दलितों की नाराजगी को देखते हुए भाजपा एससी-एसटी एक्ट में बदलाव के खिलाफ अध्यादेश ले आयी थी। इसके बाद से ही भाजपा दलितों को मनाने और अपने पाले में करने की कोशिशों में जुटी है, लेकिन अब टांडा की विधायक द्वारा बाबा साहब की प्रतिमा को भगवा कपड़े पहनाए जाने की घटना से दलित एक बार फिर भाजपा से नाराज हो सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App