ताज़ा खबर
 

इंजीनियर को धमकाने वाले भाजपा विधायक के खिलाफ मामला दर्ज, एसपी ने दिया जांच का आदेश

इंजीनियर को धमकाने वाला आॅडियो वायरल होने के बाद विधायक के खिलाफ पार्टी ने भी जांच के आदेश दिए हैं।
भारतीय जनता पार्टी

बूंदी के बिजली विभाग के सहायक अभियंता को मोबाइल फोन पर धमकाने वाले भाजपा विधायक अशोक डोगरा के खिलाफ पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। इंजीनियर को धमकाने वाला आॅडियो वायरल होने के बाद विधायक के खिलाफ पार्टी ने भी जांच के आदेश दिए हैं। बूंदी में अवैध बिजली कनेक्शन काटे जाने को लेकर विधायक ने इंजीनियर को बुरी तरह से धमकाया था। इससे पहले टोंक जिले के मालपुरा के भाजपा विधायक ने भी एक बिजली इंजीनियर को इसी तरह धमकाया था।

राज्य में बिजली वितरण कंपनियों के इंजीनियर विभाग का राजस्व बढ़ाने के लिए लगे हैं। इसमें अवैध बिजली कनेक्शन वालों के खिलाफ उनकी मुहिम को सत्ताधारी दल के विधायक ही ठेंगा बता रहे हैं। बूंदी के विधायक अशोक डोगरा ने तो वहां के सहायक अभियंता को इस कदर धमकाया कि वह छुट्टी लेकर बैठ गया। इंजीनियर ने बूंदी के जिला एसपी को विधायक के खिलाफ भी शिकायत दर्ज करवा दी है। विधायक के धमकाने वाला आॅडियो सार्वजनिक होने के बाद मामले ने तूल पकड़ लिया। एसपी ने इस मामले की जांच के आदेश भी दे दिया। विधायक का कहना है कि उन्होंने तो सिर्फ लोगों की भावनाओं को ध्यान में रखने को कहा था। इसके अलावा बिजली कनेक्शन के लिए लगी फ ाइलों का निपटारा करने को कहा था।

इंजीनियर को धमकाने वाले ऑडियो में विधायक डोगरा गाली-गलौज कर रहे हैं। विधायक ने धमकाते हुए इंजीनियर को कहा कि वो उसके कपड़े उतरवा देंगे और पिटवाएंगे। इंजीनियर नियम-कानूनों का हवाला देते हुए विधायक से अनुनय-विनय कर रहा है। इसके बावजूद विधायक ने इंजीनियर को कहा कि वो जानता नहीं है कि किससे बात कर रहा है। बिजली इंजीनियर अपनी लाचारी बताते हुए विधायक से कह रहा है कि अब वो उस इलाके में ही नहीं जाएगा जहां उसने अवैध कनेक्शन काटे हैं।

इससे पहले टोंक के मालपुरा के विधायक कन्हैया लाल ने भी स्थानीय बिजली इंजीनियर को धमकाते हुए किसानों का ध्यान रखने को कहा था। प्रदेश में भाजपा विधायकों के बिजली इंजीनियरों को धमकाने की घटनाएं बढ़ने से विभाग में भी खलबली मची गई है। बिजली वितरण कंपनियां घाटे को पाटने के लिए अपने इंजीनियरों पर भी दबाव बना रही हैं। इसके चलते ही कई इलाकों में टकराव की स्थिति बन रही है।

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष अशोक परनामी ने बुधवार को यहां कहा कि फिलहाल उन्होंने आॅडियो क्लिप नहीं सुना है। पार्टी नेताओं की तरफ से लगातार की जा रही गलत बयानबाजी को गंभीरता से लिया जाएगा। परनामी का कहना है कि भाजपा नेताओं की अनुशासनहीनता बर्दाश्त नहीं की जाएगी। ऐसे नेताओं के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। परनामी ने बताया कि विधायक डोगरा की हरकतों की पूरी रिपोर्ट जिला अध्यक्ष से मांगी गई है।

दूसरी तरफ प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने कहा कि ये पहली बार नहीं है जब भाजपा विधायकों ने इस तरह की हरकत की हो। भाजपा नेता जनता को क्या संदेश देना चाहते है। इससे पहले कोटा के विधायक प्रहलाद गुंजल ने सीएमएचओ को बुरी तरह से धमकाया था। इस मामले में विधायक गुंजल को पार्टी से निलंबित भी किया गया था। प्रदेश भाजपा ने गुंजल का निलंबन कुछ समय पहले ही निरस्त कर दिया था। उसके बाद अब दो विधायकों और अन्य नेताओं के सरकारी अफसरों को धमकाने के मामले लगातार उजागर होने से भाजपा की छवि खराब होने लगी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.