ताज़ा खबर
 

भाजपा विधायकों की लड़ाई राजभवन पहुंची

हरिद्वार जिले के भाजपा के दो विधायकों- कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन और देशराज कर्णवाल के बीच छिड़ा विवाद अब उत्तराखंड के राजभवन पहुंच गया है।

Author देहरादून | April 17, 2019 12:46 AM
उत्तराखंड राजभवन

हरिद्वार जिले के भाजपा के दो विधायकों- कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन और देशराज कर्णवाल के बीच छिड़ा विवाद अब उत्तराखंड के राजभवन पहुंच गया है। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस का एक प्रतिनिधि मंडल राज्यपाल बेबी रानी मौर्या से मिला और कांग्रेसी नेताओं ने भाजपा विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन द्वारा भाजपा के ही दलित विधायक देशराज कर्णवाल का जाति प्रमाणपत्र फर्जी होने का आरोप लगाने की जांच राज्यपाल से कराने की मांग की। वहीं दूसरी ओर हरिद्वार जिले के खानपुर क्षेत्र के भाजपा विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन ने कहा कि महात्मा गांधी के नाम के आगे से केंद्र सरकार को राष्ट्रपिता का तमगा हटा देना चाहिए और उनकी जगह बाबा साहब भीमराव आंबेडकर के नाम के आगे राष्ट्रपिता लगाना चाहिए, क्योंकि उन्होंने भारत को ऐसा संविधान दिया जिसमें दलितों, पिछड़ों, गरीबों को समान अधिकार दिए गए। जबकि महात्मा गांधी ने अपने चहेते जवाहरलाल नेहरू को देश का प्रधानमंत्री बनाया और देश के दो टुकड़े करवा दिए। अगर गांधी नेहरू की जगह जिन्ना को प्रधानमंत्री बनाते तो देश का बंटवारा नहीं होता और देश के लोगों को बंटवारे का दंश न झेलना पड़ता।

चैंपियन ने कहा कि नेहरू की नीतियों के कारण देश को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपमानित होना पड़ा। कश्मीर में धारा 370 लगाकर नेहरू ने कश्मीर में ऐसे बीज बोए कि यह समस्या आज नासूर बनकर खड़ी है। नेहरू के कारण भारत चीन से युद्ध हारा और चीन ने भारत की हजारों बीघा जमीन अपने कब्जे में कर रखी है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार को हमारे नोटों में गांधी की जगह भीमराव आंबेडकर की फोटो लगानी चाहिए। उन्होंने झबरेड़ा के भाजपा विधायक देशराज कर्णवाल के जाति प्रमाणपत्र को फर्जी बताया। उन्होंने कहा कि वे एक महीने के अंदर कर्णवाल को जेल भिजवाकर रहेंगे। उन्होंने कर्णवाल के जाति प्रमाणपत्र के खिलाफ नैनीताल हाई कोर्ट में याचिका भी दायर की है। चंैपियन ने बताया कि उन्होंने देहरादून में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से मुलाकात कर उनके माध्यम से प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन देकर महात्मा गांधी के स्थान पर बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर को राष्ट्रपिता का दर्जा देने की मांग की।

चैंपियन के बयान से उत्तराखंड की राजनीति में उबाल आ गया है और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष अजय भट्ट के निर्देश पर प्रदेश महामंत्री नरेश बंसल ने चैंपियन और कर्णवाल को अनुशासनहीनता करने के आरोप में नोटिस जारी कर दिया है। वहीं दूसरी ओर भाजपा के मुख्य प्रदेश प्रवक्ता देवेंद्र भसीन ने कहा कि चैंपियन और कर्णवाल को प्रदेश भाजपा की ओर से अनुशासनहीनता करने का नोटिस जारी कर दिया गया है और चैंपियन के महात्मा गांधी और जिन्ना के बारे में दिए गए बयान से पार्टी का कोई लेना-देना नहीं है। यह उनका अपना निजी बयान है। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी को भाजपा राष्ट्रपिता मानती है और उनका बहुत सम्मान करती है। उन्होंने कहा कि चैंपियन के बयान को पार्टी ने गंभीरता से लिया है और उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App