ताज़ा खबर
 

मिशन 2019: बीजेपी ने सपा-बसपा गठजोड़ का निकाला तोड़! बनाई ये रणनीति

भाजपा ने उत्तर प्रदेश के करीब 400 सांसदों और विधायकों को यह निर्देश दिया है कि वे कम से कम 10 अनुसूचित जाति और ओबीसी समुदाय के वोटरों को पार्टी में शामिल होने के लिए प्रेरित करें।

तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर भाजपा पूरी तैयारी में जुट गई है। मिशन 2019 को लेकर उत्तर प्रदेश में अपने प्रदर्शन को दोहराने के लिए विशेष रणनीति बना रही है। अगले पांच महीनों में उत्तर प्रदेश के करीब 400 सांसद और विधायक ग्रामीण क्षेत्रों में अभियान के दौरान अपने संघर्ष की परीक्षा देंगे। उनका एक ही लक्ष्य है हर हाल में सपा-बसपा गठबंधन को कमजोर करना। द इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, नाम न छापने के अनुरोध पर एक भाजपा कार्यकर्ता ने बताया कि, “भाजपा जो कि एनडीए गठबंधन का नेतृत्व कर रही है, केंद्र और राज्य दोनों जगह उसकी सरकार है,  ने अपने सांसदों, विधायकों और विधान पार्षदों को यह निर्देश दिया है कि वे कम से कम 10 अनुसूचित जाति और ओबीसी समुदाय के वोटरों को पार्टी में शामिल होने के लिए प्रेरित करें।”

भाजपा संगठन सचिव सुनिल बंसल ने कंफर्म किया कि पार्टी हेडक्वार्टर में एक मॉनिटरिंग सेल का गठन किया गया है। इसके निर्देश में सितंबर से अभियान शुरू हो रहा है। भाजपा के शीर्ष नेताओं ने कहा कि जिन दस वोटरों को पार्टी में जुड़ने के लि प्रेरित करना है, वे एक ही परिवार के न हों। साथ ही ये वो वोटर हों, जो पहले बसपा से जुड़े हुए थे। पूरे अभियान का निरीक्षण पार्टी के वार रूम जो कि प्रदेश हेडक्वार्टर लखनऊ में स्थित है, वहां से किया जाएगा।

 

रिपोर्ट के अनुसार, भाजपा सूत्रों ने बताया कि, “हमारा सिस्टम भाजपा सांसदों, विधायकों और विधान पार्षदों को एससी और ओबीसी समुदाय के वोटरों को पार्टी से जोड़ने के लिए दिए गए टास्क का निरीक्षण करने में सही है। ये सभी सांसद, विधायक और विधान पार्षद महीने में 10 दिन 50 गांव अपना समय व्यतीत करेंगे। एक विधानसभा क्षेत्र में करीब 250 गांव होते हैं। इस लिहाज से हम जनवरी के अंत तक सभी विधानसभा क्षेत्र के गांव के लोगों से अपना संपर्क स्थापित कर लेंगे। पार्टी नेतृत्व ने पार्टी के समर्पित कार्यकर्ताओं को ‘ब्रज, काशी, गोरखपुर, पश्चिम, अवध और कानपुर’ के गांव में संपर्क करने वाले बीजेपी नेताओं पर नियमित रूप से रिपोर्ट करने के लिए लगाया है।” भाजपा की प्रदेश इकाइ ने समर्पित कार्यकर्ताओं जैसे डीजीपी ब्रिजलाल और राज्यसभा सदस्य राम सकल और एससी समुदाय के कांता करदम को ग्रामीण क्षेत्र के अपने समुदाय के सदस्यों के साथ लगातार बैठक करने को कहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App