ताज़ा खबर
 

बीजेपी विधायकों ने सतर्कता आयोग को लिखी चिट्ठी, एलडीए में करोड़ों के भ्रष्‍टाचार का आरोप

भाजपा विधायक वीरेंद्र सिंह लोधी और धमेंद्र शाक्य ने राज्य सर्तकर्ता आयोग को चिट्ठी लिख लखनऊ विकास प्राधिकरण पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है। दोनों ने आग्रह किया है कि एलडीए के दोषी अधिकारियों, नवीन मित्तल नगर नियोजक एवं मानचित्र विभाग के दोषी अधिकारियों के खिलाफ जांच की जाए।

तस्वीर का प्रयोग प्रतीक के तौर पर किया गया है। (फोटो सोर्स- पीटीआई)

उत्तर प्रदेश के ऐटा से भाजपा विधायक वीरेंद्र सिंह लोधी और बदायूं से भाजपा विधायक धमेंद्र शाक्य ने राज्य सर्तकर्ता आयोग को चिट्ठी लिख लखनऊ विकास प्राधिकरण पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है। साथ ही दोनों ने आयोग से इस मामले में गोपनीय जांच करने का अनुरोध किया है। वीरेंद्र सिंह लोधी ने अपने पत्र में लिखा कि, “मेरे संज्ञान में आया है कि लखनऊ विकास प्राधिकरण में भारी भ्रष्टाचार का खेल चल रहा है। इसमें नवीन मित्तल नगर नियोजन एवं मानचित्र विभाग के अधिकारी नक्शा पास कराने के नाम पर भारी कमीशन वसूल रहे हैं। यहां हर एक नक्शा पास कराने में 20 लाख, 30 लाख और 50 लाख तक की मांग की जाती है। जो पैसे नहीं देते, उनके नक्शे पर कई तरह की आपत्तियां जताकर उसे पेंडिंग कर दिया जाता है। यहां खुलेआम भ्रष्टाचार का खेल चल रहा है।”

भाजपा विधायक ने आगे कहा कि, “लखनऊ विकास प्राधिकरण में कोई भी काम बिना पैसे दिए नहीं होता है। पिछली सरकार के मुकाबले भ्रष्टाचार दोगुना हो गया है। यहां लोग आवासीय का नक्शा पास करा कॉमर्शियल का निर्माण करते हैं। हर फ्लोर के लिए काफी पैसे वसूले जाते हैं। यहां के अधिकारी अवैध निर्माण भी करवा रहे हैं। अधिकार टाउनशिप कंपनियों से करोड़ों की वसूली करते हैं। टाउनशिप वाले ग्राहकों से ठगकर यह पैसा अधिकारियों को देते हैं। अभी हाल में ही अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम शहीद पथ के निकट कनॉट प्लेस की तर्ज पर शॉन-ए-अवध बनायाज जा रहा था, जिसकी बिक्री की रिजर्व कीमत 500 करोड़ थी, जिसको एलडीए के अधिकारियों ने साठ-गांठ कर भारी गोलमाल किया। उसको 438 करोड़ में मुंबई की कंपनी को बेच दिया जिसमें 62 करोड़ का घोटाला हुआ। जबकि रिजर्व की कीमत से कम पर नहीं बेचा जाना चाहिए था। यह अंसल टाउनशिप के घोटालों पर भी भ्रष्टाचार के दम पर दबाए हुए है।”

 
वहीं,भाजपा विधायक धमेंद्र शाक्य ने भी अपने लिखे पत्र में कहा, “मुझे मालूम हुआ है कि लखनऊ विकास प्राधिकरण में भारी भ्रष्टाचार का खेल चल रहा है। इसमें नवीन मित्तल नगर नियोजक एवं मानचित्र विभाग के अधिकारी नक्शा पास कराने के नाम पर भारी कमीशन की वसूली करते हैं। हर नक्शा पास करने को लेकर लाखों रुपये की मांग करते हैं। पैसे न देने पर नक्शा पास नहीं किया जाता है। कोई भी काम बिना पैसे दिए नहीं होता है।” दोनों ने राज्य सर्तकर्ता आयोग से आग्रह किया है कि एलडीए के दोषी अधिकारियों, नवीन मित्तल नगर नियोजक एवं मानचित्र विभाग के दोषी अधिकारियों के खिलाफ जांच की जाए।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App