ताज़ा खबर
 

बीजेपी नेताओं पर सरकारी पैसे से बच्चों की शादी कराने का आरोप, योगी के मंत्री भी थे मौजूद

जब इस संबंध में भाजपा नेता रामनिवास मौर्या से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि वह गरीब हैं और इसी वजह से उन्होंने अपनी बेटी की शादी मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह कार्यक्रम में करायी है।

Author October 26, 2018 7:48 AM
उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना का एक दृश्य। (file photo)

उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना एक बार फिर विवादों में आ गई है। दरअसल इस बार बरेली में हुए मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत भाजपा नेताओं द्वारा अपने बच्चों की शादी कराने का मामला सामने आया है। अब जब इस पर कई लोगों ने आपत्ति जतायी है तो प्रशासन ने इस मामले की जांच शुरु कर दी है। खबर के अनुसार, भाजपा के मंडल अध्यक्ष रामनिवास मौर्या और भाजपा नेत्री बेबी द्वारा सामूहिक विवाह कार्यक्रम में अपनी बेटियों की शादी करायी गई है। एबीपी न्यूज की एक खबर के अनुसार, सामूहिक विवाह कार्यक्रम से 3 दिन पहले ही भाजपा नेत्री बेबी ने अपनी बेटी की शादी बड़े ही धूमधाम से की है, जिसमें लाखों रुपए खर्च किए गए हैं। आरोप हैं कि सरकार की तरफ से मिलने वाले अनुदान के लिए भाजपा नेताओं ने अपनी बेटियों की शादी मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह कार्यक्रम के दौरान करायी।

वहीं जब इस संबंध में भाजपा नेता रामनिवास मौर्या से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि वह गरीब हैं और इसी वजह से उन्होंने अपनी बेटी की शादी मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह कार्यक्रम में करायी है। नगर पालिका संजीव सक्सेना का भी कहना है कि सामूहिक विवाह में जो भी विवाह हुए हैं, वो सही हुए हैं और उनमें कोई गड़बड़ी नहीं हुई है। बता दें कि सामूहिक विवाह के दौरान नवविवाहित जोड़ों को आशीर्वाद देने के लिए सिंचाई मंत्री धर्मपाल सिंह, आंवला नगर पालिका अध्यक्ष संजीव सक्सेना, आंवला एसडीएम और सीओ भी कार्यक्रम के दौरान मौजूद रहे।

वहीं दूसरी तरफ विपक्ष को जैसे ही इस घटना की जानकारी हुई, उन्होंने भाजपा नेताओं को निशाने पर ले लिया। खबर है कि समाजवादी पार्टी के स्थानीय नेताओं ने एसडीएम से मुलाकात कर मामले की जांच कराने की अपील की है। मामला तूल पकड़ते देख प्रशासन ने मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं। बता दें कि मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत इससे पहले गौतमबुद्धनगर जिले में एक बड़े फर्जीवाड़े का मामला सामने आया था। कई जोड़ो द्वारा सिर्फ सरकार की तरफ से शादी में मिलने गिफ्ट के कारण शादी की गईं थीं। बता दें कि इस योजना के तहत सरकार प्रत्येक जोड़े को 20 हजार रुपए नगद, गहने, उपहार और अन्य सामान देती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X