ताज़ा खबर
 

मंदिर के वादे पर बोले डिप्टी सीएम- जब राम चाहेंगे तब बनेगा मंदिर

भाजपा नेता व उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने राम मंदिर मसले पर किए गए सवाल पर कहा, "बिना भगवान की इच्छा के कोई कार्य नहीं होता। जब राम चाहेंगे तब मंदिर बन जाएगा। हमारी सरकार रामराज्य व रामकाज के लिए ही कार्य कर रही है।"

Author November 12, 2018 10:36 AM
जपा नेता व उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा।

भाजपा अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का वादा कर सत्ता में आई, लेकिन भाजपा नेता व उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने यहां रविवार को कहा कि जब भगवान राम चाहेंगे, तभी मंदिर बनेगा। उपमुख्यमंत्री कैसरगंज से विधायक व कैबिनेट मंत्री मुकुट बिहारी वर्मा के पौत्र के मुंडन संस्कार में शामिल होने पहुंचे थे। लोक निर्माण विभाग के डाक बंगले पर हुई पत्रकार वार्ता में शर्मा ने राम मंदिर मसले पर किए गए सवाल पर कहा, “बिना भगवान की इच्छा के कोई कार्य नहीं होता। जब राम चाहेंगे तब मंदिर बन जाएगा। हमारी सरकार रामराज्य व रामकाज के लिए ही कार्य कर रही है।”

जिले की भाजपा सांसद सावित्री फुले के अयोध्या में बुद्ध की मूर्ति स्थापित करने के बयान पर उपमुख्यमंत्री ने कहा, “हमारी पार्टी में सिर्फ सीएम व प्रदेश अध्यक्ष जो कहते हैं, वही पार्टी की लाइन होती है। बाकी लोग क्या कहते हैं, यह कोई मायने नहीं रखता।” शर्मा ने आगे कहा, “हमारी सरकार नकल विहीन परीक्षाएं कराने के लिए कटिबद्ध है। आगामी बोर्ड परीक्षा को हम सबसे कम समय मे कराने जा रहे हैं। इससे इस पर होने वाले भारी भरकम खर्च पर भी रोक लग सकेगी। परीक्षा केंद्रों को बदलने के लिए किसी भी प्रकार की सिफारिश बर्दाश्त नहीं की जाएगी।”

वहीं दूसरी ओर अयोध्या मामले से जुड़े प्रतिवेदनों पर 14 नवंबर को विचार करने से कुछ दिनों पहले राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष सैयद गैयूरुल हसन रिजवी ने कहा है कि विवादित स्थान पर राम मंदिर बनना चाहिए ताकि देश का मुसलमान ‘सुकून, सुरक्षा और सम्मान’ के साथ रह सके। उन्होंने यह भी कहा कि इस मामले में उच्चतम न्यायालय को जल्द फैसला करना चाहिए ताकि देश में शांति और भाईचारा मजबूत हो सके। रिजवी ने कहा, ‘‘इस मामले में मेरा भी यह मानना है कि न्यायालय को जल्द फैसला सुनाना चाहिए ताकि समाज में शांति और भाईचारा मजबूत हो सके।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App