ताज़ा खबर
 

घबराई BJP विकास का झूठा दिखावा बंद कर ध्रुवीकरण के लिए चल रही है सांप्रदायिक कार्ड: जिग्नेश मेवानी

जिग्नेश मेवानी उत्तरी गुजरात के वडगाम से कांग्रेस के समर्थन से निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर किस्मत आजमा रहे हैं, जहां 14 दिसंबर को मतदान होना है।

Author वडगाम | Published on: December 11, 2017 7:23 PM
Gujarat Election Result 2017: जिग्नेश ने विजय चक्रवर्ती को 19696 मतों से हराया। (Express photo by Renuka Puri/Files)

दलित नेता जिग्नेश मेवानी ने सोमवार को कहा कि हार के डर से भाजपा विकास का झूठा दिखावा बंद करने को मजबूर होकर मतदाताओं के ध्रुवीकरण के लिए सांप्रदायिक कार्ड चल रही है। मेवानी उत्तरी गुजरात के वडगाम से कांग्रेस के समर्थन से निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर किस्मत आजमा रहे हैं, जहां 14 दिसंबर को मतदान होना है। उन्होंने पीटीआई को दिए इंटरव्यू में कहा कि सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी आॅफ इंडिया से 50 हजार रुपए का चेक लेने पर भाजपा सांप्रदायिक आधार पर उन पर निशाना साध रही है। लेकिन पार्टी को अपने अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय शाह की दौलत में बेतहाशा वृद्धि की वजह बतानी चाहिए।

मेवानी ने कहा, ‘‘क्या एसडीपीआई का किसी आतंकी संगठन या जिहादी समूह से कोई लेना-देना है, तो फिर क्यों अमित शाह, राजनाथ सिंह या नरेंद्र मोदी इतने साल तक चुप रहे? उन्होंने मुझे 50 हजार रुपए का चेक दिया। क्या इस पर सवाल उठना चाहिए या जय शाह की कमाई में 16 हजार गुना बढ़ोत्तरी पर?’’ मेवानी 2014 में भाजपा के सत्ता में आने के बाद अमित शाह के बेटे जय शाह की एक कंपनी के मुनाफे में बेतहाशा बढ़ोत्तरी के आरोपों का जिक्र कर रहे थे। भाजपा और अमित शाह के बेटे जय ने इस खबर को गलत और अपमानजनक बताते हुए खारिज कर दिया था।

35 साल के मेवानी ने कहा कि भाजपा उन्हें निशाना बना रही है क्योंकि चुनाव में उसका कोई एजेंडा नहीं है। उन्होंने कहा, ‘‘इस तरह की चाल काम नहीं करेंगी। गुजरात की जनता जानती है कि जिग्नेश मेवानी निष्कलंक ईमानदारी वाला व्यक्ति है।’’ मेवानी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पार्टी अध्यक्ष अमित शाह, मुख्यमंत्री विजय रुपानी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को उनके खिलाफ प्रचार में उताकर भाजपा अपनी घबराहट दिखा रही है।

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे जीत का भरोसा है। गुजरात में विकास का मुद्दा पीछे चला गया है क्योंकि सत्तारूढ़ भाजपा अंतिम उपाय के रूप में सांप्रदायिक कार्ड का इस्तेमाल कर रही है। यह अब अपना वास्तविक रंग दिखा रही है। महीनों तक वे विकास की बात करेंगे लेकिन आखिरी दौर में मतदाताओं का ध्रुवीकरण करेंगे।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 पाकिस्तान से भारत लौटी गीता ने कहा- मुस्लिम परिवार की बेटी नहीं हूं मैं
2 भैय्याजी जोशी बोले- जाति, क्षेत्र या भाषा से नहीं बल्कि हिन्दुत्व से बदलेगा समाज