ताज़ा खबर
 

राज्यसभा चुनाव: मायावती के उम्मीदवार को हराने के लिए राजा भैया, शिवपाल समेत कई के संपर्क में बीजेपी?

उत्तर प्रदेश में दस खाली सीटों पर हो रहे राज्यसभा चुनाव में संख्याबल को देखते हुए बीजेपी का आठ सीटें जीतना तय है। मगर, एक अतिरिक्त सीट पर भी बीजेपी ने दांव खेल दिया है। शिवपाल यादव, राजा भैया सहित निर्दलीय विधायकों के सहारे बीजेपी अतिरिक्त सीट पर भी कब्जा जमाने की तैयारी में है।

Author नई दिल्ली | March 14, 2018 11:18 am
प्रतीकात्मक तस्वीर।

उत्तर प्रदेश में दस खाली सीटों पर हो रहे राज्यसभा चुनाव में संख्याबल को देखते हुए बीजेपी का आठ सीटें जीतना तय है। मगर, एक अतिरिक्त यानी नौवीं सीट पर भी बीजेपी ने दांव खेल दिया है। ताकि सपा के समर्थन से बसपा का उम्मीदवार राज्यसभा की दहलीज न पार कर सके। इसके लिए बीजेपी ने समाजवादी पार्टी में भतीजे अखिलेश यादव से नाराज चल रहे चाचा शिवपाल यादव, बाहुबली  विधायक राजा भैया  सहित अन्य निर्दलीय विधायकों पर निगाहें गड़ा दी हैं। भाजपा अतिरिक्त वोटों का जुगाड़ कर यूपी में नौवीं सीट भी जीतने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा रही है। उत्तर प्रदेश में राज्यसभा की एक सीट जीतने के लिए 37 वोट चाहिए। यूपी में एनडीए के 324 विधायकों को देखते हुए बीजेपी अपने आठ उम्मीदवारों को राज्यसभा आसानी से भेज सकती है। जबकि 28 वोट बीजेपी के पास बच जाएंगे। ऐसे में नौ और विधायकों के वोट की व्यवस्था अगर बीजेपी कर लेती है तो उसे एक अतिरिक्त सीट भी मिल जाएगी।

यूपी में नौवीं सीट जीतने के लिए बीजेपी ने खास गेम-प्लान तैयार किया है। तीन निर्दलीय उम्मीदवारों के संपर्क में बीजेपी लगातार बनी हुई है। इसमें मायावती के धुर-विरोधी राजा भैया, अमनमणि त्रिपाठी और सपा में अखिलेश यादव के राज के बाद से हाशिए पर चल रहे शिवपाल यादव हैं। राष्ट्रीय लोकदल और निषाद पार्टी के एक-एक विधायकों को भी पाले में करने की तैयारी है।खास बात है कि पिछले साल राष्ट्रपति चुनाव में यूपी के निर्दलीय विधायकों, शिवपाल यादव और कई सपा विधायकों ने बीजेपी प्रत्याशी रामनाथ कोविंद को वोट किया था। उस समय यूपी से रामनाथ कोविंद को 335 वोट मिले थे, जबकि एनडीए के पास यूपी में 324 विधायक रहे। जाहिर सी बात है कि चुनाव में क्रास वोटिंग हुई। एक वरिष्ठ बीजेपी नेता का कहना है कि जैसे राष्ट्रपति चुनाव में क्रास वोटिंग हुई थी, वैसे ही राज्यसभा चुनाव में भी होगा। यूपी में समाजवादी पार्टी के पास अब 47 की जगह 46 विधायक बचे हैं।

क्योंकि नरेश अग्रवाल के बेटे नितिन अग्रवाल बीजेपी कंडीडेट को मतदान करेंगे। जया बच्चन को राज्यसभा भेजने के बाद भी सपा के पास नौ वोट बचेंगे। इन नौ वोटों और निर्दलीयों के जुगाड़ से बसपा मुखिया मायावती अपने प्रत्याशी को राज्यसभा भेजना चाहतीं हैं। लोकसभा उपचुनाव में बसपा सपा का समर्थन कर रही है, ऐसे में सपा शेष वोट बसपा को देने का फैसला करती है। हालांकि भाजपा नेताओं का कहना है कि शिवपाल के करीबी कुछ सपा विधायक भी भाजपा को वोट करेंगे। इससे भाजपा अपने नौवें उम्मीदवार को आसानी से जिता ले जाएगी। एक बीजेपी नेता का कहना है कि छपरौली से रालोद विधायक और निषाद पार्टी के विधायक विजय मिश्रा ने बीजेपी को वोट करने का फैसला कर लिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App