ताज़ा खबर
 

Odisha: बीजेपी के चीफ व्हिप बोले- मैं फुटपाथ पर रहता हूं, वहीं से काम करता हूं, मेरी फाइलें लूट ली गईं, स्टाफ से बदसलूकी हुई

मांझी ओडिशा के कियोनझार के तीसरी बार विधायक बने हैं। मांझी ने विधानसभा के शून्यकाल के दौरान यह मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि विधानसभा के सदस्य के रूप में शपथ लेने के एक महीने के बाद भी उन्हें भुवनेश्वर में घर नहीं मिला है।

एमसी माझी, ओडिशा बीजेपी के चीफ व्हिप (फोटो-एएनआई)

ओडिशा में तीसरी बार विधायक बने और विधानसभा में बीजेपी के मौजूदा चीफ व्हिप के बयान से सियासी गलियारों में हंगामा शुरू हो गया है। दरअसल बीजेपी नेता एमसी मांझी ने दावा किया है कि उन्हें अब तक राजधानी में सरकारी घर नहीं दिया गया है। उन्होंने कहा, ‘मैं फुटपाथ पर रहता हूं और वहीं पर काम करता हूं। एक बार मेरे निजी सहायक के साथ बदसलूकी भी हो चुकी है और मेरी फाइलों को लूटा जा चुका है। मैं अपनी सुरक्षा सुनिश्चित करने और आवासीय क्वार्टर आवंटित करने की मांग करता हूं।’ उनके इस बयान के बाद से राज्य की सियासत में चर्चा चलती रही। बीजेपी ने इसे लेकर हंगामा भी किया।

गेस्ट हाऊस में भी नहीं मिली जगहः मांझी ओडिशा के कियोनझार के तीसरी बार विधायक बने हैं। मांझी ने विधानसभा के शून्यकाल के दौरान यह मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि विधानसभा के सदस्य के रूप में शपथ लेने के एक महीने के बाद भी उन्हें भुवनेश्वर में घर नहीं मिला है। इतना ही नहीं उनके मुताबिक गेस्ट हाऊस में भी उन्हें जगह नहीं मिली। मांझी की बात सुनने के बाद अध्यक्ष ने कहा, ‘आपकी सारी परेशानियां दूर की जाएंगी। इसके बाद विधानसभा अध्यक्ष ने उन्हें अपने कक्ष में बुलाया और उनसे बात की।’

जमकर हुआ हंगामाः मांझी के इस बयान से सदन में हर कोई हैरान रह गया। बीजेपी ने इस मसले पर जमकर हंगामा किया और नवीन पटनायक के नेतृत्व वाली बीजू जनता दल की सरकार पर विपक्ष के सदस्यों की अनदेखी करने का आरोप लगाया। फिलहाल इस मामले में स्पीकर की तरफ से आश्वासन दिया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Uttarakhand: हैरान कर देगा सरकारी कॉलेज की पुरानी किताबों में दर्ज इतिहास, किसी काम की नहीं 90 फीसदी किताबें
2 Railway Strike: कथित निजीकरण के खिलाफ श्रमिक संघ का प्रदर्शन, बोर्ड ने कहा- हड़ताल में जाने वालों के नाम बताओ
3 Jammu-Kashmir: बलिदान दिवस पर छुट्टी के विरोध में उतरे कश्मीर पंडित और राजपूत युवा, बोले- हिंदुओं के खिलाफ नरसंहार का प्रतीक है ये दिन
ये पढ़ा क्या?
X