कार्यकाल पूरा होने से पहले ही भाजपा ने एक साल के अंदर तीन राज्यों के बदले सीएम; कर्नाटक उत्तराखंड के बाद आया गुजरात का नंबर

कर्नाटक और उत्तराखंड के बाद भाजपा ने मुख्यमंत्री बदलने वाला प्रयोग गुजरात में करने का फैसला किया। इसी प्रयोग के तहत गुजरात में विजय रुपाणी ने मुख्यमंत्री पद से अपना इस्तीफा सौंप दिया।

बीते एक साल में भाजपा कर्नाटक, उत्तराखंड और गुजरात में चार मुख्यमंत्रियों को बदल चुकी है। (फोटो- एएनआई)

शनिवार को गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। इस्तीफा देने के बाद अब भाजपा राज्य में नए मुख्यमंत्री के नाम की घोषणा करेगी। विजय रूपाणी के इस्तीफे के साथ ही बीते एक साल में भाजपा अबतक चार मुख्यमंत्रियों को उनके कार्यकाल पूरा करने से पहले ही बदल चुकी है।  उत्तराखंड में त्रिवेंद्र सिंह रावत और तीरथ सिंह रावत एवं कर्नाटक में येदियुरप्पा को हटाने के बाद अब भाजपा ने गुजरात में भी मुख्यमंत्री बदलने का फैसला किया है। 

इस साल भाजपा ने सबसे पहला उलटफेर मार्च के महीने में किया था जब पार्टी ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को उनके पद से हटाने का फैसला किया था। 9 मार्च 2021 को त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिया था। इसके बाद 10 मार्च, 2021 को पौड़ी लोकसभा सीट से सांसद तीरथ सिंह रावत को राज्य का नया मुख्‍यमंत्री बनाया गया था। लेकिन संवैधानिक बाध्यता के चलते 2 जुलाई को तीरथ सिंह रावत ने भी अपना इस्तीफा सौंप दिया था। बाद में भाजपा ने पुष्कर सिंह धामी को अपना मुख्यमंत्री बनाया।

इसके बाद भाजपा ने दूसरा बड़ा उलटफेर 26 जुलाई को किया। पार्टी के शीर्ष नेतृत्व के कहने पर कर्नाटक के तत्कालीन मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा को इस्तीफा देना पड़ा। दरअसल भाजपा ने 75 वर्ष में नेताओं को रिटायरमेंट देने का नियम बना रखा है। इन्हीं नियमों के तहत येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा। हालांकि यह खबर भी सामने आई थी कि पार्टी के अंदर उठ रहे विरोध के सुर सामने आने के बाद ही शीर्ष नेतृत्व ने यह फैसला लिया और मुख्यमंत्री बनाए जाने के दो साल बाद ही येदियुरप्पा को अपने पद छोड़ना पड़ा। येदियुरप्पा के बाद कर्नाटक के वरिष्ठ भाजपा नेता बसवराज बोम्मई को राज्य की कमान सौंपी गई।

कर्नाटक और उत्तराखंड के बाद भाजपा ने मुख्यमंत्री बदलने वाला प्रयोग गुजरात में करने का फैसला किया। इसी प्रयोग के तहत गुजरात में विजय रुपाणी ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा सौंप दिया। इस्तीफा देने के बाद भाजपा की तरफ से यह कहा जा रहा है कि पार्टी के अंदर हर पांच साल पर मुख्यमंत्री बदलने की परंपरा है। इसलिए यह फैसला लिया गया है। हालांकि राजनीतिक गलियारों में यह अटकलें लगाई जा रही है कि संगठन के साथ सामंजस्य नहीं बिठाने और सरकार की पकड़ ढीली होने के वजह से भाजपा ने मुख्यमंत्री बदलने का फैसला किया है।  

विजय रूपाणी के इस्तीफा देने के बाद से ही राज्य में नए मुख्यमंत्री को लेकर कई संभावित नेताओं के नाम की चर्चा जोरों पर है। मौजूदा केंद्रीय मंत्रियों समेत कई शीर्ष भाजपा नेताओं का नाम इस लिस्ट में शामिल है। इनमें केंद्रीय मंत्री मनसुख मांडविया, लक्षद्वीप के प्रशासक प्रफुल्ल पटेल, केंद्रीय मंत्री पुरुषोत्तम रुपाला, डिप्टी सीएम नितिन पटेल और गुजरात भाजपा के अध्यक्ष सीआर पाटिल का नाम मुख्य रूप से लिया जा रहा है।  

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट