ताज़ा खबर
 

प. बंगाल: अम‍ित शाह की रैली के बावजूद कार्यकर्ताओं की हत्‍या को मुद्दा नहीं बना पाए भाजपाई, नाराज हुए व‍िजयवर्गीय!

दो भाजपा कार्यकर्ता पुरुलिया जिले में बीते 31 मई और 2 जून को लटके हुए पाए गए थे। इस मुद्दे पर भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने पूरे देश में विरोध प्रदर्शन करने का ऐलान किया था। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भी हत्याओं के विरोध में पुरुलिया में रैली का आयोजन किया था।

कैलाश विजयवर्गीय। (express photo)

भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व अपनी बंगाल युनिट से बेहद नाखुश है। मंगलवार को राज्य के बड़े पार्टी नेता ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया कि राज्य के पंचायत चुनावों के बाद पुरुलिया में उनके दो पार्टी कार्यकर्ताओं की हत्या को मुद्दा बनाने में बंगाल इकाई बुरी तरह नाकाम रही है। आलाकमान की नाराजगी का कारण यही है।

बंगाल के भाजपा नेता ने बताया कि भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और राज्य के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने आंतरिक प्रगति मीटिंग में अपना राज्य के पार्टी नेताओं के सामने अपना असंतोष व्यक्त किया। उनकी नाराजगी का कारण यही था कि राज्य के बड़े नेता पश्चिम बंगाल में हो रही कार्यकर्ताओं की हत्याओं को मुद्दा बना पाने में नाकाम रहे हैं। नेता ने बताया,”कैलाश जी ने हमें फिर से राज्य में हो रही हिंसा और भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमले के खिलाफ नया आंदोलन शुरू करने के लिए कहा है।

राज्य के नेताओं से मुलाकात के दौरान, विजयवर्गीय ने लगातार आंदोलन न चलाने और उससे हुई विफलता के कारण उनकी आलोचना की। विजयवर्गीय ने पुरुलिया में पंचायत चुनावों के दौरान भाजपा के दो कार्यकर्ताओं की हत्या से कार्यकर्ताओं के बीच फैले आक्रोश के बारे में भी चर्चा की। एक वरिष्ठ भाजपा नेता ने पीटीआई को बताया, ”उन्होंने (विजयवर्गीय) कहा इस मुद्दे पर सड़क पर उतरने के बजाय, राज्य इकाई ने सिर्फ कुछ मीटिंगों और रैलियों का आयोजन किया। उन्होंने नेताओं से भी पूछा कि आखिर क्यों राज्य इकाई इस मुद्दे पर व्यापक जनांदोलन खड़ा नहीं कर पाई?”

वैसे बता दें कि दो भाजपा कार्यकर्ता पुरुलिया जिले में बीते 31 मई और 2 जून को लटके हुए पाए गए थे। इस मुद्दे पर भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने पूरे देश में विरोध प्रदर्शन करने का ऐलान किया था। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भी हत्याओं के विरोध में पुरुलिया में रैली का आयोजन किया था। अमित शाह ने उसी मंच से तृणमूल कांग्रेस सरकार को राज्य में हराने का ऐलान किया था। इन कथित हत्याओं से बड़ा राजनीतिक विवाद खड़ा हो गया था। भाजपा ने पिछले पंचायत चुनावों में पुरुलिया के बलरामपुर इलाके में तृणमूल कांग्रेस के ​खिलाफ बेहतरीन प्रदर्शन किया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App