ताज़ा खबर
 

बंगाल: हफ्ते भर में दो धमाके के बाद बड़ी कार्रवाई, 100 से ज्यादा जिंदा बम और हथियार बरामद

बीरभूम में बीते एक साल से सत्ताधारी तृणमूल और बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच हिंसा की कई घटनाएं हुई हैं। दोनों ही पक्ष एक दूसरे पर हिंसा करने का आरोप लगाते आए हैं।

Author कोलकाता | July 8, 2019 7:38 AM
बीते हफ्ते में यहां धमाके की दो घटनाएं हो चुकी हैं। (फोटो सोर्स- पीटीआई)

पश्चिम बंगाल की बीरभूम पुलिस ने रविवार को बताया कि उन्होंने 100 से ज्यादा जिंदा देसी बम बरामद किए हैं। पुलिस के मुताबिक, शनिवार रात चली छापेमारी के बाद जिले के विभिन्न हिस्सों से 9 लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है। बता दें कि पुलिस ने ये छापे जिले में धमाके की दो घटनाओं के बाद मारे थे। बीरभूम में बीते एक साल से सत्ताधारी तृणमूल और बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच हिंसा की कई घटनाएं हुई हैं। दोनों ही पक्ष एक दूसरे पर हिंसा करने का आरोप लगाते आए हैं।

बीरभूम के एक सीनियर पुलिस अफसर ने बताया, ‘हमने बीरभूम के विभिन्न हिस्सों से 100 से ज्यादा जिंदा बम बरामद किए हैं। बमों को सफलतापूर्वक निष्क्रिय कर दिया गया। जिले भर में शनिवार रात चली छापेमारी में हमने 9 लोगों को गिरफ्तार किया है और 6 अवैध असलहे जब्त किए हैं।’ बीरभूम के एसपी श्याम सिंह ने रविवार को बताया कि 112 बमों में 40 लाभपुर से, 32 नानून से, 20 पुरुई से, 9-9 कांकरतला और सदईपुर से जबकि दो रामपुर हाट पुलिस स्टेशन के इलाके से बरामद किए गए हैं।

बीते हफ्ते में यहां धमाके की दो घटनाएं हो चुकी हैं। पहला मामला बीरभूम के लाभपुर में गुरुवार को हुई। यहां एक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के परिसर में एक खाली पड़ी इमारत में हुए धमाके की वजह से वह पूरी तरह तबाह हो गई थी। वहीं, इससे चार दिन पहले, मल्लारपुर रेलवे स्टेशन के नजदीक स्थित एक क्लब बिल्डिंग में हुए धमाके की वजह से इसकी छत और दीवारों को नुकसान पहुंचा था। अच्छी बात यह रही कि इन धमाकों में किसी की जान नहीं गई।

पुलिस ने रविवार को कहा कि उन्होंने लाभपुर के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में हुए धमाके के मामले में 3 लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘हम मामले की जांच कर रहे हैं।’ बता दें कि लाभपुर में हुए धमाके के बाद तृणमूल ने पुलिस पर ऐक्शन न लेने का आरोप लगाया था। साथ ही लाभपुर पुलिस स्टेशन के ऑफिसर इन चार्ज को हटाने की भी मांग की गई थी। वहीं, बीजेपी का आरोप था कि इलाके में ‘तृणमूल के समर्थन वाले असामाजिक तत्वों’ का दबदबा है।

(पीटीआई इनपुट्स के साथ)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App