ताज़ा खबर
 

सुपर-30 के बच्चों का आनंद कुमार पर हल्ला बोल, झूठ बोलने का लगाया आरोप

सुपर-30 के संचालक आनंद कुमार अब विवादों में हैं। विवाद का कारण उनके ही शिष्यों के दावे हैं, जिनमें कहा गया है कि आनंद कुमार ने प्रसिद्धि पाने के लिए लोगों को गलत जानकारी देकर गुमराह किया है।

सुपर-30 कोचिंग के संचालक गणित शिक्षक आनंद कुमार। Express photo by Jaipal Singh

जाने-माने गणित गुरु और आईआईटी कोचिंग संस्थान सुपर-30 के संचालक आनंद कुमार अब विवादों में हैं। विवाद का कारण उनके ही शिष्यों के दावे हैं, जिनमें कहा गया है कि आनंद कुमार ने प्रसिद्धि पाने के लिए लोगों को गलत जानकारी देकर गुमराह किया है। साल 2018 में आनंद कुमार ने दावा किया था कि उनकी कोचिंग सुपर-30 के 26 बच्चों ने जेईई एडवांस में सफलता पाई है। जबकि कोचिंग के विद्यार्थियों का दावा है कि इस बार सिर्फ तीन बच्चे ही जेईई-एडवांस में क्वालीफाई कर पाए हैं।

आईआईटी में प्रवेश के लिए आयोजित की जाने वाली परीक्षा को जेईई यानी संयुक्त प्रवेश परीक्षा कहा जाता है। इस परीक्षा का अंतिम नतीजा आने के बाद सुपर-30 के संचालक आनंद कुमार ने दावा किया था कि उनकी कोचिंग के 26 बच्चों ने जेईई एडवांस में सफलता पाई है। आनंद कुमार ने ओनीरजीत गोस्वामी, सूरज कुमार, यश कुमार और सूर्यकांत के नाम सफल विद्यार्थियों के तौर पर बताए थे। छात्रों का दावा है कि सूरज कुमार कोटा (राजस्थान) के कोचिंग संस्थान का छात्र है।

सुपर-30 वाले आनंद कुमार के छात्र गगन ने मीडिया को बताया कि आनंद सर ने जितने बच्चों को सफल बताकर दिखाया है, उसमें सिर्फ ओनीरजीत ही सुपर-30 का छात्र है। बाकी सभी तीन छात्र जेईई मेन के बाद दूसरे कोचिंग संस्थान से लाए गए थे। सभी छात्रों को छात्रवृत्ति के तौर पर मोटी रकम देने का भरोसा दिया गया था। गगन ने बताया कि ओनीरजीत को एडवांस में 128 अंक मिले थे जबकि कटऑफ 126 था। खराब रैंक के कारण ओनीरजीत को आईआईटी में दाखिला नहीं मिला। उसके अलावा अनुपम और गगन एसएसी श्रेणी में पास हुए हैं। उनका नाम आनंद सर ने सार्वजनिक नहीं किया है।

सुपर-30 के कथित छात्र गगन ने मीडिया को बताया कि सुपर-30 में पिछले साल सिर्फ 23 छात्र थे। इनमें से एक का चयन एनडीए मेंं हो गया। जबकि 22 बच्चों को आनंद कुमार पढ़ाते रहे। जेईई-मेन्स के बाद 15-20 बच्चे कोटा और अन्य कोचिंग संस्थानों से लाए गए। आनंद कुमार ने साल 2017 और साल 2018 दोनों के सेलिब्रेशन में आदित्य और शेखर नाम के छात्र को शामिल किया। लेकिन दोनों ही आईआईटी में शामिल नहीं हो सके। सुपर-30 के कोर बैच में शामिल रामकुमार, अर्पित, रजत, प्रिंस राजू, दीपक, सूरज खरबार, अभिषेक जैसे छात्र कटआॅफ के करीब भी नहीं पहुंच सके हैं।

IIT JEE नतीजे आने के बाद आनंद कुमार को गोद में उठाकर जश्न मनाते सुपर 30 के सफल छात्र। (फोटो- PTI)

आनंद कुमार खुद के ऊपर बन रही फिल्म सुपर-30 में काम दिलवाने का झांसा भी छात्रों को दिया करते थे। ऐसा दावा उनकी ही कोचिंग के विद्यार्थियों ने किया है। छात्र अनुपम के मुताबिक आनंद सर ऐसा क्लास में कहते थे। कोचिंग में मूलभूत ढांचा ही गायब है, रसायन विज्ञान का शिक्षक ही नहीं था। इस कारण पांच बच्चे कैमिस्ट्री में फेल हो गए। जब अगस्त में कई लड़कों ने कोचिंग छोड़ने की बात कही तो आनंद कुमार तुरंत स्कॉलरशिप देने और शिक्षक उपलब्ध करवाने का भरोसा दिया। लेकिन दिया असल में कुछ भी नहीं।

गणित शिक्षक और सुपर-30 के संचालक आनंद कुमार पर बन रही फिल्‍म सुपर-30 में आनंद का किरदार अभिनेता रितिक रोशन निभा रहे हैं। फोटो- Twitter

छात्र गगन ने दावा किया कि रिजल्ट खराब आने पर आनंद कुमार ने सभी बच्चों को इकट्ठा करके कहा, रिजल्ट खराब आया है। कोचिंग और छात्रों की इज्जत दांव पर है। अगर हम फर्जी रिजल्ट बता दें तो इज्जत बच जाएगी। लेकिन जब ज्यादातर बच्चों ने विरोध किया तो आनंद कुमार को मन मानकर पीछे हटना पड़ा। एक विद्यार्थी ने बताया कि सुपर-30 में महंगे स्कूलों के बच्चे गरीब बनकर पढ़ते थे। शेखर सत्याकार, आदित्य आनंद, सूरज खरवार रेसोनेंस कोटा (राजस्थान) से आए थे। जबकि प्रीत रंजन डीपीएस बोकारो और ओनीरजीत आकाश इंस्टीट्यूट का छात्र था। छात्रों के आरोपों पर आनंद कुमार बैकफुट पर हैं। उन्होंने कहा कि सुपर-30 को बदनाम करने की साजिश चल रही है। कुछ बच्चे जो पहले रामानुजम क्लासेज में पढ़ते थे वे बेबुनियाद आरोप लगा रहे हैं। एडवांस में क्वालीफाई सभी 26 बच्चों के नाम जरूरत के अनुसार सार्वजनिक किए जाएंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App