ताज़ा खबर
 

अमेरिकी मरीन कमांडो बिहार में गिरफ्तार, पूछताछ में जुटी रॉ और आईबी

प्रवक्ता ने यह भी बताया कि डेविड मूल रूप से साउथ कोरिया का रहने वाला है, लेकिन 1998 में वह अमेरिका जाकर बस गया था। डेविड ने दावा किया है कि वह 12 मार्च को दिल्ली से साउथ कोरिया चला गया था, जिसके बाद वह नेपाल पहुंचा।

इस तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) द्वारा बिहार में भारत-नेपाल बॉर्डर से 50 वर्षीय एक अमेरिकी मरीन कमांडो को गिरफ्तार किया गया है। कमांडो इलाके में संदिग्ध तरीके से घूम रहा था, जिसके कारण एसएसबी ने उसकी गिरफ्तारी की। कमांडो की पहचान डेविड डूहयं क्युंग के रूप में हुई है। एसएसबी ने डेविड को 19 मार्च को गिरफ्तार किया था, जिसके बाद उससे इंटेलिजेंस ब्यूरो, रॉ और स्थानीय पुलिस ने काफी समय तक पूछताछ की। इसकी पुष्टि एसएसबी के प्रवक्ता ने की है। डेविड को एसएसबी ने मधुबनी के जयनगर स्थित खौना बॉर्डर पोस्ट से पकड़ा था।

एसएसबी को डेविड के पास से आईडी और कुछ डॉलर बरामद हुए हैं, जिन्हें जब्त कर लिया गया है। अपनी कार्रवाई पूरी करने के बाद एसएसबी द्वारा डेविड को स्थानीय पुलिस को सौंप दिया गया था। एसएसबी प्रवक्ता द्वारा इस मामले पर दी गई जानकारी के अनुसार, शुरुआती पूछताछ के दौरान डेविड ने कहा कि वह अमेरिकी नागरिक है और उसने अपना नेपाल के लिए टूरिस्ट वीजा भी दिखाया जो 12 अप्रैल को एक्सपायर हो जाएगा।

इसके बाद जब आईबी, रॉ और पुलिस ने सख्ती से डेविड से पूछताछ की तो उन्हें पता चला कि डेविड 26 अक्टूबर, 2017 को भारत आया था और उससे 17 जनवरी को देश छोड़ने के लिए कहा गया था। प्रवक्ता ने बताया कि डेविड का वीज़ा कैंसल कर उसे 26 जनवरी को निर्वासित कर दिया गया था। फिलहाल, इस बारे में पता नहीं चल पाया है कि आखिर डेविड को निर्वासित क्यों किया गया था। इतना ही नहीं, प्रवक्ता ने यह भी बताया कि डेविड मूल रूप से साउथ कोरिया का रहने वाला है, लेकिन 1998 में वह अमेरिका जाकर बस गया था। डेविड ने दावा किया है कि वह 12 मार्च को दिल्ली से साउथ कोरिया चला गया था, जिसके बाद वह नेपाल पहुंचा।

प्रवक्ता का कहना है कि डेविड के बयान मेल नहीं खाते हैं। उसके पास से टिकट और बोर्डिंग पास मिला है, लेकिन उसके पासपोर्ट में कोई एंट्री नहीं है। एसएसबी प्रवक्ता ने कहा, “डेविड के अनुसार, नेपाल पहुंचने के बाद वह इस इलाके में आया और उसे एसएसबी ने गिरफ्तार कर लिया। वहीं, उसका यह भी कहना है कि वह जनकपुर और उसके आस-पास के इलाकों का दौरा कर रहा था।” इस मामले को लेकर अधिकारियों का कहना है कि देश से निर्वासित किए जाने के बाद वह देर रात भारतीय सीमा में घुसा था। फिलहाल, इस मामले में जांच की जा रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App