ताज़ा खबर
 

नीतीश के ‘विश्‍वासघात’ के खिलाफ सड़क पर उतरे आरजेडी कार्यकर्ता, 5 घंटे जाम रहा गांधी सेतु

इससे पहले पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद ने गुरुवार तड़के करीब दो बजे अपने समर्थकों के साथ राजभवन मार्च किया।

Author Published on: July 27, 2017 6:16 PM
इस दौरान राजद कार्यकर्ताओं ने नीतीश के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। (Photo: PTI)

बिहार में महागठबंधन टूटने के बाद राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के कार्यकर्ता गुरुवार को सड़क पर उतरे। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर विश्वासधात का आरोप लगाते हुए राजद ने ‘विश्वासघात दिवस’ मनाने की घोषणा की और सैकड़ों राजद समर्थकों ने पटना में ऐतिहासिक महात्मा गांधी सेतु पर धरना दिया, जिससे करीब पांच घंटे तक इस पुल पर आवागमन ठप रहा। बाद में पुलिस अधिकारियों के समझाने-बुझाने पर राजद समर्थक सड़क से हटे। पटना शहर में भी राजद कार्यकर्ता सड़क पर उतरे और राजद प्रदेश कार्यालय से आयकर गोलंबर पर पहुंचकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का पुतला फूंका। इस दौरान राजद कार्यकर्ताओं ने नीतीश के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। वैशाली और समस्तीपुर जिले में भी राजद समर्थक सड़कों पर उतरे।

इससे पहले पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद ने गुरुवार तड़के करीब दो बजे अपने समर्थकों के साथ राजभवन मार्च किया।

राजद के प्रवक्ता मनोज झा ने कहा कि सबसे ज्यादा 80 विधायक राजद के पास हैं, इसके बावजूद प्रभारी राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी ने राजद को सरकार बनाने का न्योता नहीं देकर आनन-फानन में जदयू-भाजपा की सरकर बनवा दी। यह लोकतंत्र की हत्या है। उन्होंने कहा कि ये पूरा घटनाक्रम सुनियोजित ढंग से हुआ है। बिहार की जनता ने भाजपा के खिलाफ ऐतिहासिक जनादेश दिया था। यह बिहार की जनता का अपमान है। नीतीश ने बिहार की जनता के साथ विश्वासघात किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 नोटबंदी से दो महीने पहले ही पीएम नरेंद्र मोदी ने फेंक दिया था नीतीश कुमार पर चारा
2 विश्वास मत में नीतीश के खिलाफ जा सकते हैं कई विधायक, शाम पांच बजे होगी जदयू के नाराज नेताओं की बैठक
3 जदयू में गड़बड़ के संकेत? नीतीश के शपथ में नहीं पहुंचे शरद, लालू बोले- करूंगा उनको फोन