ताज़ा खबर
 

जबतक परिवार नहीं देगा तलाक पर साथ, तबतक नहीं लौटेंगे घर, तेज प्रताप ने रखी कड़ी शर्त

राजद के विधायक चंद्रिका राय की बेटी और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री दरोग प्रसाद राय की पोती ऐश्वर्या राय की शादी 12 मई को तेज प्रताप से हुई थी।

शादी से पहले मैंने अपने माता-पिता से यह कहा था, लेकिन किसी ने मेरी बात नहीं सुनी और न ही अब कोई मेरी बात सुन रहा है।

आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद के बेटे और विधायक तेज प्रताप यादव अपने तलाक को लेकर चर्चा में हैं। उन्होंने शुक्रवार 9 नवंबर को कहा कि वह वर्तमान में हरिद्वार में रह रहे थे और वह तब तक घर वापस नहीं आएंगे जब तक कि उनका परिवार तलाक के उनके फैसले पर तेज प्रताप के साथ नहीं आ जाता है। पटना में एक क्षेत्रीय समाचार चैनल से बात करते हुए, उन्होंने अपने छोटे भाई तेजस्वी यादव को उनके जन्मदिन पर बधाई दी, लेकिन कहा कि वह नई दिल्ली में समारोह में शामिल नहीं हो पाएंगे, जहां आरजेडी उत्तराधिकारी अपनी बहनों से मिलने गए हैं। बुधवार को बोध गया में आरजेडी नेता को देखा गया जहां उन्होंने रांची में एक अस्पताल में अपने बीमार पिता से मिलने के बाद एक होटल में चेकइन किया था। लालू प्रसाद तलाक लेने के अपने बड़े बेटे के फैसले से परेशान हैं। लालू प्रसाद कई चारा घोटालों के मामलों में जेल में हैं। वर्तमान में, वह इलाज के लिए रांची में एक अस्पताल में भर्ती हैं।

राजद के विधायक चंद्रिका राय की बेटी और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री दरोगा प्रसाद राय की पोती ऐश्वर्या राय की शादी 12 मई को तेज प्रताप से हुई थी। तेज प्रताप ने कहा कि “हमारे मतभेद असहनीय हैं। शादी से पहले मैंने अपने माता-पिता से यह कहा था, लेकिन किसी ने मेरी बात नहीं सुनी और न ही अब कोई मेरी बात सुन रहा है। जब तक वे मुझसे सहमत नहीं हो जाते, तब तक मैं घर कैसे लौट सकता हूं?

बिहार के पूर्व मंत्री ने अपने वैवाहिक विवाद में ससुराल वालों सहित अपने कुछ करीबी रिश्तेदारों द्वारा निभाई गई भूमिका पर नाराजगी व्यक्त की। तेज प्रताप यादव ने कहा, “मैं तेजस्वी को अपना आशीर्वाद देता हूं। वह बिहार के अगले मुख्यमंत्री बन सकते हैं। मैं उनकी तरफ से रहूंगा और कृष्ण ने महाभारत की लड़ाई में जैसे अर्जुन की सहायता की थी उसी तरीके से उनकी मदद करूंगा। इस बीच, पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव और लालू प्रसाद के करीबी सहयोगी भोला यादव ने पत्रकारों से अनुरोध किया कि वे परिवार के भीतर मतभेदों को खबर न बनाएं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App