ताज़ा खबर
 

तेजप्रताप अब हो गए ‘अर्जुन’, पिछले साल बने थे कृष्ण और भाई को बताया था धनुर्धारी

तेज प्रताप ने अभी राजनीतिक रूप से उभरते छोटे भाई को लेकर कोई बात नहीं कही। हालांकि ऐसा महसूस होता है कि वह पार्टी में DSS के जरिए अपना प्रभुत्व बनाने की कोशिश करने में जुटे हैं।

Pratap Yadavबिहार के पूर्व कैबिनेट मिनिस्टर तेज प्रताप यादव। (पीटीआई फोटो)

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव राजनीति से ज्यादा मंदिरों में भगवान के दर्शन को लेकर खासे चर्चा में रहे। अब उन्होंने पार्टी के युवाओं के आकर्षित करने के लिए धर्मनिरपेक्ष सेवक संघ (DSS) का यूट्यूब ट्रेलर लॉन्च कर दिया है। इस संगठन का गठन पिछले साल राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) और इसकी वैचारिक पार्टी भाजपा को काउंटर करने के लिए किया गया। शनिवार (22 दिसबंर, 2018) को ट्विटर पर शेयर किए गए छोटे से ट्रेलर में DSS के धर्मनिरपेक्ष होने का दावा किया गया है। इसमें तेज प्रताप को अर्जुन के रूप में प्रोजेक्ट किया गया है। इससे पहले उन्होंने एक लिंक शेयर किया था जिसमें छोटे भाई तेजस्वी को अर्जुन और खुद को कृष्ण बताया, जो भारतीय महाकाव्य महाभारत में योद्धा राजकुमार के सारथी थे।

जानना चाहिए कि पिछले साल DSS को लॉन्च करते वक्त तेज प्रताप ने वादा किया, ‘अभी तो यह ट्रेलर है…पूरी पिक्चर बाकी है।’ बिहार के पूर्व कैबिनेट मिनिस्टर पत्नी और उनसे तलाक के बातों पर पिछले कई महीनों तक चर्चा रहे। इस बीच तेजस्वी की पार्टी पर पकड़ के चलते दोनों भाईयों की बीच खटास की अफवाहों का दौर भी शुरू हुआ। इसपर तेज प्रताप ने कहा कि वह ‘हस्तिनापुर’ की बागडोर ‘अर्जुन’ को सौंपने और खुद ‘द्वारका’ जाने के लिए तैयार हैं। हालांकि कुछ दिनों के भीतर उन्होंने खुद की सक्रिय राजनीति में आने की घोषणा कर दी। बिहार के विधायक राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के कार्यालय में दिखाई दिए। यहां उन्होंने पार्टी के युवा कार्यकर्ताओं से मुलाकात की। उन्होंने कहा कि पार्टी के दलबदलुओं को वोट के ‘सुदर्शनचक्र’ से मार दिया जाएगा।

तेज प्रताप ने कहा, ‘मैं भगवान कृष्णा का आशीर्वाद लेने के बाद बिहार वापस लौट आया हूं। राज्य लोकसभा चुनाव के दौरान कुरुक्षेत्र के रूप में उभरेगा और हमारे मतदाताओं के वोट के सुदर्शन च्रक से विरोधियों को मार दिया जाएगा।’ बता दें कि तेज प्रताप ने अभी राजनीतिक रूप से उभरते छोटे भाई को लेकर कोई बात नहीं कही। हालांकि ऐसा महसूस होता है कि वह पार्टी में DSS के जरिए अपना प्रभुत्व बनाने की कोशिश करने में जुटे हैं। रांची में बीमार पिता से मिलने के बाद उन्होंने कहा कि उन्हें अपने पिता का आशीर्वाद है और वह पार्टी को आगे ले जाएंगे। लालू यादव चारा घोटाले में सजा काट रहे हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 बिहार : बदमाशों ने गोली मारकर व्यापारी केपी शाही की हत्या की, तीन दिन में दूसरे कारोबारी का मर्डर
2 रेप मामले में आरजेडी के निलंबित विधायक राजबल्लभ यादव को आजीवन कारावास, 50,000 का जुर्माना भी
3 पप्पू यादव की पार्टी का CM नीतीश के खिलाफ प्रदर्शन, पुलिस के साथ झड़प में कार्यकर्ता घायल
यह पढ़ा क्या?
X