ताज़ा खबर
 

…तो इस तरह से रूबी राय समेत कई स्टूडेंट्स ने किया 12th में टॉप

राहुल ने बताया कि स्टूडेंट्स को 5 लाख रुपए के एवज में एग्जामिनेशन सेंटर जाना था और आंसर शीट में अपना नाम लिखकर चले आना था।
बिहार बोर्ड आर्ट्स टॉपर रूबी राय (फाइल फोटो)

बिहार में चर्चित टॉपर्स घोटाले मामले में आर्ट्स स्ट्रीम की क्लास 12th टॉपर रुबी राय को गिरफ्तारी के तीन तीन हफ्ते बाद घर जाने की इजाजत मिल चुकी है। बिहार पुलिस ने उसके एक क्लासमेट को पकड़ है, जो टॉपर्स घोटाले में तीन अन्य स्टूडेंट के साथ फरार चल रहा था। स्टूडेंट का नाम राहुल कुमार (20) है। राहुल कुमार वीएन राय कॉलेज के अन्य स्टूडेंट्स के साथ गायब था। बता दें कि इस स्कूल का प्रिंसिपल घोटाले का आरोपी बच्चा राय है। पुलिस इस मामले में बच्चा राय समेत 47 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है।

एनडीटीवी के मुताबिक राहुल बारहवीं क्लास के एग्जाम में थर्ड टॉपर था। राहुल ने मामले के जांचकर्ताओं को बताया कि स्टूडेंट्स को 5 लाख रुपए के एवज में एग्जामिनेशन सेंटर जाना था और आंसर शीट में अपना नाम लिखकर चले आना था। स्टूडेंट ने आगे बताया कि सूरज डूबने के बाद उन्हें फिर वापस आकर सीट पर रखी चीट शीट्स ढूंढनी थी। उसके बाद अपनी शीट्स पर उसके जानकारियों को कॉपी करना था और रिव्यू के लिए सौंप देना था। राहुल ने बताया कि 5 लाख रुपए की रकम दो किस्तों में चुकाई जानी थी।

गौरतलब है कि बिहार बोर्ड की टॉपर रुबी राय टेलीविजन इंटरव्यू में पॉलिटिकल साइंस को होम साइंस (कुकिंग सब्जेक्ट) बताने पर फंसी थी। जिसके बाद इस पूरे घोटाले का खुलासा हुआ। जिसके बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गत छह जून को शिक्षा विभाग को निर्देश दिया था कि वैशाली जिले के विशुन राय कालेज के इंटरमीडिएट के परीक्षाफल में धांधली के आरोप के संबंध में प्राथमिकी दर्ज कराकर पूरे मामले की शीघ्र जांच पुलिस के द्वारा कराई जाए। पुलिस ने इस मामले में रुबी राय को अरेस्ट कर लिया था। पटना की एक कोर्ट ने हाईस्कूल के मैट्रिक सर्टिफिकेट को आधार मानते हुए रुबी राय को नाबालिग करार देकर बाल सुधार गृह भेजा था। हाल ही में रुबी राय को कोर्ट से जमानत मिल गई। पुलिस को रूबी राय के दो क्लासमेट्स की तालाश है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App