scorecardresearch

Nitish-Tejashwi pact: बीजेपी को गुड बाय बोलने के लिए कैसे नीतीश कुमार ने तेजस्वी यादव के साथ मिलकर दबाया रीसेट बटन, पढ़ें पांच कारण

Bihar मई में राबड़ी देवी की इफ्तार पार्टी में जब नीतीश पैदल ही पहुंच गए तो लोग हैरत में पड़ गए। उनके पैदल जाने के पीछे माना जा रहा है कि नीतीश मीडिया और नेताओं को बताना चाहते थे कि जो कर रहे हैं वो उन्हें पता है।

Nitish-Tejashwi pact: बीजेपी को गुड बाय बोलने के लिए कैसे नीतीश कुमार ने तेजस्वी यादव के साथ मिलकर दबाया रीसेट बटन, पढ़ें पांच कारण
मीडिया से बात करते आरजेडी नेता तेजस्वी यादव। (फोटो सोर्स: PTI)

बिहार में बदलाव की बयार जो दिख रही है वो अचानक ही पैदा नहीं हो गई। बल्कि पिछले कुछ अरसे से इसकी पटकथा लिखी जा रही थी। खुद नीतीश कुमार के साथ राजद की तरफ से संकेत दिए गए थे कि उनके रिश्तों पर जमी बर्फ अब पिघलने को है। दोनों ही तरफ से इसके लिए संजीदा कोशिशें की गई थीं। इसके बाद ही नीतीश ने सोच समझकर बीजेपी से दूर जाने का फैसला किया।

जिन छह कदमों को राजद और जदयू के बीच फिर से दोस्ती पनपने का कारक माना जा रहा है उसमें सबसे पहला कदम नीतीश कुमार ने उठाया। मई में राबड़ी देवी की इफ्तार पार्टी में जब नीतीश पैदल ही पहुंच गए तो लोग हैरत में पड़ गए। उनके पैदल जाने के पीछे माना जा रहा है कि नीतीश मीडिया और नेताओं को बताना चाहते थे कि जो कर रहे हैं वो उन्हें पता है। उसके बाद नीतीश के घर इफ्तार पार्टी में तेजस्वी पहुंचे तो सीएम खुद उन्हें दरवाजे तक छोड़ने आए। मतलब साफ हो रहा था।

उसके बाद जब लालू प्रसाद के खिलाफ करप्शन का केस दर्ज किया गया तो नीतीश या फिर उनकी पार्टी के किसी नेता की तरफ से कोई बयान नहीं आया। यानि साफ था कि केंद्र के कदम को जदयू की तरफ से ठीक नहीं माना गया। 74 साल के लालू के मामले में केंद्र के कदम को जदयू की सहमति नहीं थी।

इसके बाद जून में जब असेंबली का सेशन हुआ तो तेजस्वी या राजद के किसी नेता ने नीतीश सरकार की आलोचना करने से साफ इन्कार कर दिया। लालू की जब तबियत बिगड़ी और उन्हें एयर एंबुलेंस के जरिये दिल्ली ले जाना पड़ा तो नीतीश खुद अस्पताल पहुंचे और सारे इंतजाम की खुद देखरेख की।

रविवार को तेजस्वी ने महंगाई के खिलाफ प्रदर्शन किया तो सरकार ने सुरक्षा के खासे इंतजाम सड़कों पर रखे। ये कदम भी राजद जदयू की दोस्ती के तौर पर देखा जा रहा है। इसके अलावा जातीय जनगणना को लेकर भी नीतीश ने सकारात्मक रुख दिखाया। कहने की जरूरत नहीं कि ये तेजस्वी की मांग थी।

पढें पटना (Patna News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट