ताज़ा खबर
 

2019 के लिए विपक्ष तय करे वैकल्पिक एजंडा, सिर्फ एकता की बात करने से काम नहीं चले: नीतीश कुमार

विपक्ष के प्रधानमंत्री के चेहरे के संबंध में पूछे गए सवाल पर कहा कि वह 2019 के जनादेश के लिए विपक्ष का चेहरा नहीं हैं।

पटना | July 4, 2017 2:20 AM
बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार। (PTI File Pic)

राष्ट्रपति चुनाव और जीएसटी मुद्दों पर विपक्षी एकता को तोड़ने वाले के रूप में देखे जा रहे बिहार के मुख्यमंत्री और जद (एकी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार ने कहा है कि विपक्ष को अपना वैकल्पिक एजंडा तय करना चाहिए। मुख्यमंत्री सचिवालय स्थित संवाद कक्ष में सोमवार को आयोजित लोक संवाद कार्यक्रम के बाद नीतीश ने पत्रकारों से बातचीत में विपक्ष के प्रधानमंत्री के चेहरे के संबंध में पूछे गए सवाल पर कहा कि वह 2019 के जनादेश के लिए विपक्ष का चेहरा नहीं हैं। उन्होंने कहा- मुझमें न वह क्षमता है और न ही मेरे मन में आकांक्षा है। उन्होंने कहा कि विपक्ष को अपना वैकल्पिक एजंडा तय करना चाहिए। वैकल्पिक एजंडे के आधार पर एकता और गोलबंदी होनी चाहिए, तभी वह प्रभावी होगा। सिर्फ चेहरा प्रभावी नहीं होगा। नीतीश ने कहा कि कांग्रेस नेता पी चिदंबरम की किताब के विमोचन के कार्यक्रम में उन्होंने कहा था कि विपक्ष की मजबूती के लिए यह जरूरी है कि हम अपना एजंडा तय करें और उस पर काम करें। हमने यह भी कहा था कि कांग्रेस बड़ी पार्टी हैं। उसे अन्य दलों को बुलाकर वैकल्पिक एजंडा तैयार करना चाहिए।

हमें साथ ही विपक्ष के दायित्वों का भी पालनN करें। उन्होंने कहा कि वैकल्पिक एजंडा सभी विपक्षी दलों को  मिलकर तय करना चाहिए। वैकल्पिक एजंडे के बारे में पूछने पर मुख्यमंत्री ने कहा कि हम किस प्रकार देश को आगे ले जाना चाहते हैं यह तय होना चाहिए। किसानों और गोरक्षा जैसे मुद्दों पर हमारा अपना एजंडा होना चाहिए। सिर्फ बोलने से काम नहीं चलेगा।  उन्होंने कहा कि आज किसान का मुद्दा पीछे चला गया है। राष्ट्रपति चुनाव को इस तरह पेश किया गया है कि सारे मुद्दे दब गए हैं। नीतीश कुमार ने कहा- मेरा स्पष्ट मत है कि आज देश में वैकल्पिक विमर्श की जरूरत है। सिर्फ एकता की बातें करने से काम नहीं चलेगा। उन्होंने कहा- बिहार में महागठबंधन सिर्फ विपक्षी एकता नहीं थी। हमारा एक एजंडा था। साथ ही हमारे पहले के किए गए काम थे जिसे लेकर हम लोगों के पास गए और सफल हुए। बिहार में महागठबंधन में स्पष्ट एकता के साथ भविष्य के लिए एजंडा था जो कि राजग के पास नहीं था। इसलिए राष्ट्रीय स्तर पर भी सिर्फ गठबंधन बनाने से काम नहीं चलेगा। वैकल्पिक एजंडे के साथ लोगों के बीच जाना चाहिए।

 

 

Next Stories
1 नीतीश कुमार बोले- शैडो र‍िपोर्टिंग कर रहा मी‍ड‍िया, जीएसटी का पूरा समर्थन क‍िया, कहा- लॉन्च में बुलाया ही नहीं था
2 एनडीटीवी के मुस्लिम पत्रकार का आरोप- बजरंग दल वालों ने धमकाया- जय श्री राम बोलो, वरना जला देंगे कार
3 भड़के नीतीश कुमार, बोले- “हम किसी के पिछलग्‍गू नहीं हैं, जो होना होगा सो होगा”
ये पढ़ा क्या?
X