ताज़ा खबर
 

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम कांड: पूर्व मंत्री मंजू वर्मा के ठिकानों पर CBI का छापा, हड़कंप

रिपोर्ट्स के मुताबिक सीबीआई ने शुक्रवार को कई दूसरे ठिकानों पर भी छापा मारा है। इनमें मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर के पैतृक गांव पचदही, ब्रजेश ठाकुर के रिश्तेदार के मुजफ्फरपुर स्थित आवास पर भी छापेमारी की गई है।

बिहार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा। (फाइल फोटो)

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम कांड की जांच कर रही सीबीआई ने बड़ी कार्रवाई की है। सीबीआई ने बिहार की पूर्व समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा और उनके पति चंदेश्वर वर्मा के ठिकानों पर छापा मारा है। सीबीआई की टीम आज सुबह सात बजे ही पूर्व मंत्री मंजू वर्मा के पटना और बेगुसराय स्थित ठिकानों पर पहुंच गई और छापेमारी शुरू कर दी। रिपोर्ट के मुताबिक तीन गाड़ियों में सीबीआई के अफसर पटना के 6 नेता जी मार्ग पर स्थित मंजू वर्मा के ठिकानों पर पहुंचे। जागरण डॉट कॉम की रिपोर्ट के मुताबिक इस दौरान सीबीआई ने मंजू वर्मा और उसके पति चंदेश्वर वर्मा से भी पूछताछ की है। दोनों को अलग-अलग कमरों में बिठाकर पूछताछ की गई।

बता दें कि मुजफ्फरपुर शेल्टर होम कांड में मंजू वर्मा के पति का नाम आया है। आरोप है कि मंजू वर्मा के पति चंदेश्वर वर्मा मुजफ्फरपुर स्थित बालिका गृह में अक्सर जाते थे। मुजफ्फरपुर कांड के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर ने भी कहा था कि उसकी चंदेश्वर वर्मा से बातचीत होती थी। इस खुलासे के बाद सीएम नीतीश कुमार पर मंजू वर्मा को मंत्रिमंडल से हटाने के लिए विपक्ष का दवाब पड़ने लगा। बढ़ते दबाव को देखते हुए मंजू वर्मा ने खुद मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। रिपोर्ट्स के मुताबिक सीबीआई ने शुक्रवार को कई दूसरे ठिकानों पर भी छापा मारा है। इनमें मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर के पैतृक गांव पचदही, ब्रजेश ठाकुर के रिश्तेदार के मुजफ्फरपुर स्थित आवास पर भी छापेमारी की गई है।

HOT DEALS
  • Honor 8 32GB Pearl White
    ₹ 12999 MRP ₹ 30999 -58%
    ₹1500 Cashback
  • ARYA Z4 SSP5, 8 GB (Gold)
    ₹ 3799 MRP ₹ 5699 -33%
    ₹380 Cashback

बता दें कि मुजफ्फरपुर बालिका गृह में 34 लड़कियों के साथ रेप की पुष्टि हुई है। इसके बाद बिहार के सियासी और सामाजिक हलकों में तूफान मचा है। सीबीआई द्वारा छापेमारी की कार्रवाई के बाद कई और सफेदपोशों के चेहरों से नकाब उतरने वाले हैं। इसे लेकर बिहार की राजनीति में बेचैनी का माहौल है। कुछ ही दिनों पहले जब मुजफ्फरपुर जेल में छापा मारा गया था तो मुख्य आरोप ब्रजेश ठाकुर के पास से 40 फोन नंबरों की एक सूची मिली थी। इन नंबरों में एक नंबर बिहार सरकार के एक मंत्री का भी था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App