ताज़ा खबर
 

बिहार: जीतन राम मांझी की पार्टी ‘हम’ में भूकंप आने के संकेत

सूत्र बताते हैं कि लगभग सारे के सारे नेता बहुत जल्द ही अपने पुराने खोंता जनता दल यू में लौटने वाले हैं।

Author पटना | January 19, 2017 8:03 PM
बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) सेक्युलर प्रमुख जीतन राम मांझी। (फाइल फोटो)

जीतन राम मांझी की पार्टी अवामी हिन्दुस्तानी मोर्चा दिवालिया होने के कगार पर है। भरोसेमंद सूत्र बताते हैं कि दल के लगभग सभी नेता बहुत जल्द पुराने जनता दल यू में लौटने वाले हैं। नीतीश कुमार की तरफ से सिर्फ ग्रीन सिगनल होने का उन्हेंं इन्तजार है। जो किसी भी क्षण हो सकता है। मांझी के बेहद करीबी शख्‍स के मुताबिक, ‘साहब को सब पता है लेकिन वो क्या कर सकते हैं। चार-गोड़वा को न बांध कर रखा जा सकता है, दो गोड़वा को थोड़े ही। दूसरी बात-सुखे भजन ना होइ गोपाला, ले ल आपन कंठी माला।’

बताया जाता है कि पूर्व मंत्री व जमुइ-चकाई के दबंग नेता नरेन्द्र सिंह भी अपने साथ अपने दोनो बेटों को भी वापस पुराने घर में लाना चाह रहे हैं। दोनो पुत्र भी भूतपूर्व विधायक हैं। नरेन्द्र सिंह ने राजनीति की शुरुआत सत्तर के दशक में समाजवादी आन्दोलन से की थी, फिर जे पी मूवमेंट, जनता पार्टी, जनता दल यू की सुखमय यात्रा करते हुए मांझी के घर में शरण ली। हालांकि, नरेंद्र सिंह के करीबी का कहना है कि वह लालू के साथ रहते नीतीश के पाले में नहीं जा सकते, क्‍योंकि उन्‍होंने ही 1991 में सबसे पहले लाालू का विरोध करते हुए मंत्री पद से इस्‍तीफा दिया था और उनसे अलग भी हुए थे।

पूर्व मंत्री महाचन्द्र सिंह तथा बृष्ण पटेल के बारे में चर्चा है कि ये दोनो सज्जन एक संवैधानिक पद पर आसीन व्‍यक्ति के माध्यम से घर वापसी का पुख्ता इन्तजाम कर लिये है। वैसे दरे पर्दा ये भी चर्चा है कि इस संवैधानिक पदासीन माननीय को नीतीश कुमार को मनाने में पूरी माथापच्ची करनी पड़ी है। कहते हैं कि माननीय ने सीएम को नारदी स्टाइल में कुछ इस तरह समझाया ‘आप तो भगवान शंकर के अवतार हैं, विष भी पीते हैं। ललन सिंह ने भी 6 साल पहले दल से अलग होने के बाद आपके खिलाफ घृणित बयानबाजी की थी। उसने तो यहां तक कह दिया था कि नीतीश के पेट में कहां कहां दांत है सिर्फ मै ही जानता हूं और उसे मै ही तोड़ूंगा, जिसे आपने बख्श दिया’।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App