ताज़ा खबर
 

लालू की रैली में शामिल होने पर शरद यादव पर कार्रवाई करेगा जदयू

शरद यादव पार्टी के सम्मानित नेता रहे हैं और उनका बड़ा योगदान रहा है। लेकिन आज उन्होंने पार्टी के साथ जो कुछ किया, वह अच्छा नहीं था।

Author नई दिल्ली | August 28, 2017 02:35 am
शरद यादव (Express File photo)

राष्ट्रीय जनता दल की पटना में हुई जनसभा में शरद यादव के शामिल होने के बाद जद (एकी) के तेवर कड़े हो गए हैं। उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की तैयारी शुरू हो गई है। उनकी राज्यसभा सदस्यता खत्म कराने के लिए राज्यसभा के सभापति से पार्टी अनुरोध करेगी। उनके करीबी राज्यसभा सांसद अली अनवर को पार्टी से बर्खास्त करने की तैयारी है।पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव केसी त्यागी ने कहा कि शरद यादव को तीन दिन पहले ही राजद की रैली में भाग नहीं लेने का अनुरोध किया गया था। उनसे स्पष्ट कहा गया था कि रैली राजद की है, और जद (एकी) उसमें शामिल नहीं हो रहा। उन्हें रैली से दूरी रखनी चाहिए। लेकिन उन्होंने पार्टी की बात नहीं मानी। उन्होंने पार्टी की लक्ष्मण रेखा को लांघा है, मर्यादा तोड़ी है। त्यागी बाकी ने कहा कि हम मान कर चल रहे हैं कि शरद यादव ने स्वेच्छा से पार्टी छोड़ दी है। पार्टी के संविधान की 10 वीं अनुसूची में स्पष्ट प्रावधान है कि कोई व्यक्ति यदि स्वेच्छा से दल छोड़ता है तो उसकी सदस्यता जाएगी। बिहार में तत्कालीन भाजपा सांसद कैप्टन जयनारायण निषाद के राजद के कार्यक्रम में जाने पर उनकी सदस्यता जा चुकी है। उपेंद्र कुशवाहा के मामले में भी ऐसा हुआ था। लिहाजा शरद यादव के मामले में भी कार्रवाई तय है। उन्होंने बताया कि अली अनवर पर भी इसी तरह की कार्रवाई होगी। त्यागी ने कहा कि अली अनवर पर पार्टी ने सीधी कार्रवाई भी की, लेकिन शरद यादव के खिलाफ ऐसा इसलिए नहीं हो सका, क्योंकि वे पार्टी के सम्मानित नेता रहे हैं और उनका बड़ा योगदान रहा है। लेकिन आज उन्होंने पार्टी के साथ जो कुछ किया, वह अच्छा नहीं था।

जद (एकी) नेताओं ने कहा कि शरद यादव ने पिछले 40 वर्षों से परिवारवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ संघर्ष किया और आज उसी का हिस्सा बन गए। उन्होंने राजद की रैली में परिवारवाद का जो नजारा देखा, वैसा पहली कभी नहीं देखा होगा। लालू प्रसाद, उनकी पत्नी, बेटी, दो-दो बेटे सारे लोग मंच पर थे। हमें दुख है कि शरद गलत सोहबत में पड़ गए। जद (एकी) के प्रवक्ता अजय आलोक ने कहा कि यह राजद की रैली नहीं, बल्कि यादव मिलन समारोह बन गया था। पार्टी महासचिव संजय झा ने कहा कि शरद यादव अकेले पड़ गए हैं। उनके साथ जद (एकी) में कोई सहानुभूति नहीं बची। उन्होंने कहा कि पार्टी अब शरद यादव की राज्यसभा सदस्यता रद्द करवाने जा रही है। अब तक तो नैतिकता के आधार पर शरद यादव को खुद बाहर हो जाना चाहिए था।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App