ताज़ा खबर
 

पटना जंक्शन : आरक्षण सूची के सहारे अपनों को तलाश रहे थे लोग

पटना जंक्शन पहुंचे पड़ोसी राज्य झारखंड के गोड्डा जिला के बेलबड्डा निवासी मुन्ना कुमार जिनके भाई मयंक उर्फ अंकेश उक्त ट्रेन में सवार थे।
Author पटना | November 21, 2016 04:16 am
रविवार तड़के हुए ट्रेन हादसे के बाद बचावकार्य करते अधिकारी। (Photo: PTI)

उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात में हुए इंदौर-पटना एक्सप्रेस ट्रेन हादसे में हताहत हुए लोगों के लिए और उनके बारे में परिजनों को जानकारी उपलब्ध कराने के लिए बिहार सरकार और रेलवे ने व्यापक तैयारी की है। पटना रेलवे जंक्शन पर पटना के जिलाधिकारी संजय कुमार अग्रवाल और अपर रेल पुलिस अधीक्षक एएस ठाकुर के साथ वहां डेरा डाले बिहार आपदा प्रबंधन प्राधिकार के उपाध्यक्ष व्यास जी ने बताया कि हमारी पहली प्राथमिकता रेलवे और कानपुर जिला प्रशासन से जो जानकारी प्राप्त हो रही है, उसको पीड़ितों के परिजनों तक पहुंचाना है। उन्होंने बताया कि इस हादसे में हताहत हुए लोगों में से अब तक तीन-चार के परिजनों ने पटना जंक्शन आकर आकर संपर्क साधा है। व्यास जी ने बताया कि उक्त ट्रेन पर सवार घायल व सकुशल बचे लोगों को एक विशेष ट्रेन के जरिए अपराह्न दो बजे भेजा जाएगा जिनके यहां पहुंचने पर घायलों को अस्पतालों में भर्ती कराए जाने के साथ शवों और हादसे में सकुशल बचे लोगों को उनके घर तक पहुंचाया जाएगा।

पटना रेलवे जंक्शन पर पूर्व मध्य रेल (ईसीआर) के अन्य अधिकारियों के साथ कैंप किए हुए ईसीआर के चीफ आपरेशन मैनेजर बासुदेव राय ने बताया कि कानपुर से अपराह्न 2 बजे चलने वाली उक्त विशेष ट्रेन रविवार रात्रि 11 बजे तक पटना पहुंच जाएगी।उन्होंने बताया कि इस हादसे में हताहत हुए लोगों के जो भी परिजन कानपुर जाना चाहेंगे, उन्हें फ्री रेलवे पास उपलब्ध कराया जाएगा।इसीआर के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी एके रजक ने बताया कि इंदौर-पटना एक्सप्रेस ट्रेन से यात्रा करने वाले परिजनों के लिए रेलवे और पटना जंक्शन का हेल्पलाइन नंबर क्रम से 025-83288 और 7992388463 है। अपर रेल पुलिस अधीक्षक एएस ठाकुर ने बताया कि पटना रेलवे स्टेशन पहुंचे इस हादसे में हताहत हुए लोगों के परिजनों में से एक कुणाल कपूर ने उन्हें बताया कि उक्त ट्रेन के एस 2 कोच में यात्रा कर रहे उनके दादा व दादी की इस हादसे में मौत हो गई जबकि एस 6 में यात्रा कर रहे उनके तीन अन्य रिश्तेदार घायल हो गए हैं।

पटना जंक्शन पहुंचे पड़ोसी राज्य झारखंड के गोड्डा जिला के बेलबड्डा निवासी मुन्ना कुमार जिनके भाई मयंक उर्फ अंकेश उक्त ट्रेन में सवार थे। उन्होंने बताया कि मयंक से सुबह में संपर्क हुआ था और उन्होंने अपने करीब-करीब सकुशल होने की बात बताई थी।उन्होंने बताया कि वे उसे लेने कानपुर जा रहे थे, पर मयंक ने हमें वहां जाने से मना किया और कहा कि वह विशेष ट्रेन से पटना जंक्शन पहुंचेगा। इसलिए वे वहीं पर रहे पर उसके बाद से मयंक का मोबाइल बंद हो जाने से उससे बात नहीं हो पाई है। पटना के जिलाधिकारी संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि अब तक प्राप्त हुई जानकारी के मुताबिक इस हादसे में घायल हुए कुल 64 लोगों में बिहार के कुल 17 लोग शामिल हैं।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.