ताज़ा खबर
 

बिहार: डिप्टी सीएम सुशील मोदी की बहन के घर इनकम टैक्स का छापा, सृजन घोटाले में आया था नाम

आईटी टीम दोपहर बाद सुशील मोदी की बहन के आवास पर पहुंची। खबर यह भी है कि सुशील मोदी की बहन का नाम बिहार के चर्चित सृजन घोटाले में आया था। तब से विपक्ष घोटाले में सुशील मोदी की बहन के नाम पर शुरू से ही उनपर हमलावर रहा है।

बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी

बिहार के पटना में आयकर विभाग ने राज्य के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी की बहन रेखा के आवास पर छापेमारी की है। छापेमारी के दौरान पुलिस टीम भी घटनास्थल पर मौजूद है। जानकारी के मुताबिक आईटी टीम दोपहर बाद सुशील मोदी की बहन के आवास पर पहुंची। खबर यह भी है कि सुशील मोदी की बहन का नाम बिहार के चर्चित सृजन घोटाले में आया था। तब से विपक्ष घोटाले में सुशील मोदी की बहन के नाम पर शुरू से ही हमलावर रहा है।

जानकारी के मुताबिक सुशील मोदी की बहन के घर आईटी की छापेमारी के बाद राज्य में सियासी हलचल तेज हो गई हैं। सुशील मोदी की जिस बहन के घर इस वक्त छापेमारी चल रही है वह उनका बचाव लगातार करते रहे हैं। पूर्व में उन्होंने कहा था कि उनका या उनके परिवार के किसी भी सदस्य का इस मामले से कोई लेना-देना नहीं है। हालांकि बहन के घर छापेमारी के बाद यह उनका सियासी सफर भी काफी परेशानी भरा हो सकता है।

उधर, भागलपुर में भाजपा किसान मोर्चा के पूर्व उपाध्यक्ष विपिन शर्मा के भागलपुर तिलकामांझी स्थित आवास और व्यापारिक प्रतिष्ठानों पर  बुधवार को दिन में  आयकर महकमा की पटना से आई टीम ने छापा मारा। किशोर कुमार घोष और दीपक वर्मा के  ठिकानों पर भी छापामारी हुई। इन तीनों की गहरी दोस्ती है। सैकड़ों करोड़ रुपए के सृजन घपले की सरगना रहीं द‍िवंगत मनोरमा देवी से विपिन शर्मा के  करीबी रिश्ते बताए जाते हैं। इनके रिश्ते भाजपा के कई सांसदों व पूर्व सांसदों से भी हैं। सृजन घोटाले में इनका नाम आने के बाद इनको किसान मोर्चा उपाध्‍यक्ष के पद से बर्खास्त कर दिया गया था। किशोर कुमार घोष और दीपक वर्मा का नाम भी सृजन घोटाले से जुड़ा है। इनकी हैसियत भी हाल के सालों में ही बदली है। इनके शहर में शो रूम, अपार्टमेंट और आवास हैं। इन सब पर एक साथ आयकर महकमा के अधिकारियों ने छापा मारा। सृजन घपले की जांच करते सीबीआई को एक साल पूरा हो चुका है। मगर वैसी कामयाबी अब तक सामने नजर नहीं आ रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App