ताज़ा खबर
 

चुप नहीं बैठेंगे, मोदी का हाथ और गर्दन काटने वाले बहुत हैं यहां: राबड़ी देवी

विवाद की शुरुआत तब हुई जब बिहार भाजपा अध्यक्ष नित्यानंद राय ने कहा कि अगर कोई भी उंगली या हाथ मोदी के खिलाफ उठा, तो उसे तोड़ या काट दिया जाएगा।

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और लाल प्रसाद यादव की पत्नी राबड़ी देवी। (फाइल फोटो)

बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने मंगलवार (21 नवंबर) को यहां एक जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ कथित तौर पर अपमानजनक भाषा का इस्तेमाल किया। उन्होंने कहा कि भाजपा के लोग बोलते हैं कि जो मोदी के खिलाफ उंगली उठाएगा उसकी उंगली तोड़ देंगे, उसका हाथ काट देंगे। पूर्व सीएम आगे कहा, ‘ऐसा करके दिखाएं। काटकर दिखाओ। पूरे देश के लोग, बिहार के लोग क्या चुप बैठे रहेंगे? उनके हाथ काटने वाले बहुत हैं। नरेंद्र मोदी का हाथ और गला काटने वाले बहुत लोग हैं यहां। इसलिए जितना मुकदमा करना है कर लो। सबको एक साथ जेल भेजना है भेज दो। बिहार की सारी जनता जेल चली जाएगी क्या? दरअसल इस विवाद की शुरुआत तब हुई जब बिहार भाजपा अध्यक्ष और उजियारपुर से लोकसभा सांसद नित्यानंद राय ने सोमवार (20 नवंबर) को कहा था कि पीएम मोदी ने देश का नेतृत्व करने के लिए कई मुश्किलों का सामना किया था। यह सभी के लिए गर्व की बात है।

इस दौरान उन्होंने कहा था, ‘अगर कोई भी उंगली या हाथ उनके खिलाफ उठा, तो उसे तोड़ या काट दिया जाएगा।’ राय ने वैश्य और कनु (ओबीसी) समुदायों द्वारा आयोजित समारोह में यह बात कही। नरेंद्र मोदी के अतीत से लेकर पीएम बनने की यात्रा को याद करते हुए बिहार बीजेपी अध्यक्ष ने कहा, ‘जिनकी मां खाना परोसती थी, नरेंद्र मोदी को खाना खिलाने बैठी थी, उस थाली में मां को ना बेटा और बेटे को ना मां दिखाई देती थी। आज उस परिस्थिति से उठकर वह देश से पीएम बने हैं। गरीब का बेटा, उसका स्वाभिमान होना चाहिए, एक एक व्यक्ति को इसकी इज्जत करनी चाहिए।’

राय ने आगे कहा, ‘उनकी ओर उठने वाली उंगली को, उठने वाले हाथ को…हम सब मिलके…या तो तोड़ दें, जरूरत पड़ी तो काट दें।’ इस दौरान डिप्टी सीएम और पार्टी नेता सुशील मोदी भी राय के साथ मंच पर मौजूद थे। जब इंडियन एक्सप्रेस ने उसने बात की तो राय ने कहा, ‘मैंने उंगलियों को तोड़ने और हाथों काट देने के भाव को कहावत के तौर पर यह बताने के लिए इस्तेमाल किया था कि हमें उन लोगों से निपटना है, जो देश के गर्व और सुरक्षा के खिलाफ हैं। मेरा मतलब किसी खास शख्स या विपक्षी पार्टी के लिए नहीं था।’

 

गौरतलब है कि राय वैशाली से आते हैं और दिसंबर 2016 में बिहार बीजेपी के अध्यक्ष बने थे। उनकी मदद से बीजेपी बिहार में दबदबा कायम करना चाहती है। हाजीपुर से एमएलए रहे राय को बीजेपी ने 2014 के लोकसभा चुनावों में उजियारपुर से टिकट दिया था। उन्हें राज्य में सुशील मोदी, नंद किशोर और प्रेम कुमार के अलावा एक बड़े नेता के तौर पर गिना जाता है। इस समारोह में सुशील मोदी ने कहा कि आरजेडी ने कानू समुदाय के एक भी शख्स को टिकट नहीं दिया। राय के बयान पर आरजेडी चीफ लालू प्रसाद यादव ने कहा, ‘बीजेपी गर्व की बात कैसे कर सकती है, वह तो उसके पास है ही नहीं।’

भाजपा अध्यक्ष नित्यानंद राय

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App