ताज़ा खबर
 

एनडीटीवी के मुस्लिम पत्रकार का आरोप- बजरंग दल वालों ने धमकाया- जय श्री राम बोलो, वरना जला देंगे कार

अतहरुद्दीन ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि 28 जून को वो अपने माता-पिता और पत्नी के साथ मुजफ्फरपुर होकर समस्तीपुर जा रहे थे तभी ये घटना हुई थी।
Author July 3, 2017 07:58 am
एनडीटीवी के पत्रकार अतहरूद्दीन मुन्ने भारती अपने परिवार के साथ कार से समस्तीपुर जा रहे थे। (तस्वीर-फेसबुक)

बिहार की मुजफ्फरपुर पुलिस टीवी चैनल एनडीटीवी के एक पत्रकार से कथित तौर पर बजरंग दल के कुछ सदस्यों द्वारा जबरदस्ती
“जय श्री राम” कहलवाए जाने की जांच कर रही है। पत्रकार ने आरोप लगाया है कि बजरंग दल के सदस्यों ने उन्हें धमकी दी कि अगर
उन्होंने ऐसा नहीं कहा तो वो उनकी कार में आग लगा देंगे। एनडीटीवी इंडिया में बतौर प्रोग्राम कोऑर्डिनेटर काम कर रहे अतहरुद्दीन
मुन्ने भारती ने इंडियन एक्सप्रेस से शिकायत की पुष्टि करते हुए बताया कि घटना 28 जून को हुई थी।

मुजफ्फरपुर के एसएसएसपी विवेक कुमार ने एनडीटीवी से कहा, “जब मुख्यमंत्री कार्यालय से निर्देश मिलने के बाद पुलिस मुख्यालय से
मुझे फोन आया तब मुझे इसके बारे में बता चला।” अतहरुद्दीन वैशाली जिले के करनेजी गांव के रहने वाले हैं। उन्होंने इंडियन एक्सप्रेस
को बताया कि 28 जून को वो अपने माता-पिता और पत्नी के साथ मुजफ्फरपुर होकर समस्तीपुर जा रहे थे तभी रास्ते में बजरंग दल
के कार्यकर्ता उन्हें मिल गए। अतहरूद्दीन ने कहा कि वो यात्रा में होने के कारण विस्तार से बातचीत नहीं कर सकते। बाद में उनसे संपर्क
नहीं हो सका।

कथित घटना के तत्काल बाद अतहरूद्दीन ने जदयू के एमएलसी नीरज कुमार को फोन किया था। नीरज कुमार ने इंडियन एक्सप्रेस को
बताया अतहरूद्दीन के अनुसार पांच केसरिया गमछा पहने लोग मुजफ्फरपुर में एनएच-28 पर चक्काजाम के दौरान उनकी कार के पास
आए। कुमार के अनुसार अतहरूद्दीन ने उन्हें बताया कि उन लोगों के पास लाठी-डंडे भी थे। अतहरूद्दीन द्वारा कुमार को बताए विवरण के
अनुसार उनकी पत्नी बुरके में थी और उनके पिता दाढ़ी रखते हैं। अतहरूद्दीन और परिवार को देखकर बजरंग दल के कार्यकर्ता कथित
तौर पर जय श्री राम के नारे लगाने लगे। पुलिस शिकायत के अनुसार दो लोगों ने कार के पास आकर कहा कि वो “जय श्री राम” बोलें
या वो लोग कार में आग लगा देंगे। अतहरूद्दीन के अनुसार डर की वजह से उन लोगों ने “जय श्री राम” कहा तभी उन लोगों ने उन्हें
जाने दिया।

अतहरूद्दीन ने कुमार को बताया कि सड़क पर एक गाय मरी पाई जाने के बाद स्थानीय लोगों ने चक्काजाम कर दिया था। हालांकि सकरा पुलिस थाने के प्रभारी जितेंद्र कुमार के अनुसार चक्काजाम हिंदू-मुस्लिम परिवार के बीच झगड़े के वजह से हुआ था। जितेंद्र कुमार के अनुसार, “कोई मरी गाय नहीं पाई गई थी।”

वीडियो- 60 वर्षीय मुस्लिम बुजुर्ग को भीड़ से पुलिस ने बचाया

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. M
    manish agrawal
    Jul 3, 2017 at 8:50 am
    मुसलमानों ! अब हिन्दोस्तान में बीजेपी राज्य है , इसलिए ये ही सब होगा ! अपनी इस हालत के लिए तुम लोग खुद ही जिम्मेदार हो ! अपने ओछे स्वार्थों के लिए तुमने कांग्रेस की जगह प्रादेशिक पार्टियों को वोट दिया , नतीजा , कांग्रेस की सीटें कम होने से बीजेपी ताक़तवर बन गयी ! बीजेपी मुस्लिमों की वही हालत कर देगी हिन्दोस्तान में , जैसी हिन्दुओं की पाकिस्तान में है ! केवल सशक्त कांग्रेस ही मुस्लिमों की रहनुमा बन सकती है ! आज कभी 5-10 मिनिट की अज़ान को भी ध्वनि प्रदुषण करार दिया जा रहा है ! कांग्रेस के 70 बरस के शाषण में मुस्लिमों को कभी मज़हबी जिल्लत नहीं झेलनी पड़ी !
    (0)(0)
    Reply