ताज़ा खबर
 

IGIMS ने लालू यादव की देखभाल के लिए घर पर लगा रखे थे तीन डॉक्टर, दो नर्स- चिट्ठी से हुआ खुलासा

इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान के तीन बड़े डॉक्टर और दो मेल नर्स 31 मई 2017 से लेकर 08 जून, 2017 तक लालू यादव के सरकारी आवास, 10 सर्कुलर रोड पर ड्यूटी में पदस्थापित थे।

लालू यादव और उनके बड़े बेटे स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव।

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव जब भी बीमार पड़ते हैं, तब बिहार के प्रतिष्ठित और बड़े सरकारी अस्पताल इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान के बड़े डॉक्टरों की तैनाती उनके घर पर कर दी जाती है। लालू यादव ने 11 जून को ही अपना 70वां जन्मदिन मनाया है। उससे पहले वो बीमार चल रहे थे। मीडिया में आई उनकी तस्वीरें उनके सेहत की कहानी बयां कर रही थीं। अब एक पत्र सामने आया है जिससे यह स्पष्ट होता है कि इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान के तीन बड़े डॉक्टर और दो मेल नर्स 31 मई 2017 से लेकर 08 जून, 2017 तक लालू यादव के सरकारी आवास, 10 सर्कुलर रोड पर ड्यूटी में पदस्थापित थे। यानी उनकी देखभाल की ड्यूटी पर थे। आठ जून को जारी आईजीआईएमएस कार्यालय के आदेश के मुताबिक उन लोगों की आगे की ड्यूटी फिर से इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान में लगाई गई है।

HOT DEALS
  • Honor 9 Lite 64GB Glacier Grey
    ₹ 15220 MRP ₹ 17999 -15%
    ₹2000 Cashback
  • Honor 9 Lite 64GB Glacier Grey
    ₹ 16999 MRP ₹ 17999 -6%
    ₹2000 Cashback

बता दें कि राज्य के स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव हैं जो लालू यादव के बड़े बेटे हैं। वो स्वास्थ्य विभाग के अलावा वन एवं पर्यावरण विभाग के भी मंत्री हैं। जब इस बारे में इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान के मेडिकल सुप्रिटेंडेंट से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि चूंकि स्वास्थ्य मंत्री हमारे संस्थान के अध्यक्ष हैं, इसलिए उन्हें यह सुविधा दी गई। किसी और व्यक्ति को यह सुविधा नहीं दी जा सकती है।

लालू यादव के घर पर तैनात डॉक्टरों और कर्मचारियों को इस पत्र के माध्यम से फिर से IGIMS में तैनाती का आदेश मिला।

जिन डॉक्टरों को लालू यादव की देखभाल के लिए उनके घर पर लगाया गया था उनमें जेनलर मेडिसिन डिपार्टमेंट के विभागाध्यक्ष डॉ. नरेश कुमार, जनरल सर्जरी विभाग के विशेषज्ञ डॉ. कृष्ण गोपाल (अपर चिकित्सा अधीक्षक) और फॉरेन्सिक मेडिसिन विभाग के डॉ. अमन कुमार (उप चिकित्सा अधीक्षक) शामिल हैं। इनके अलावा दो मेल नर्सों अनिल सैनी (सीसीयू) और विक्रम चारण (न्यूरो ओटी) को भी वहां ड्यूटी पर लगाया गया था। जानकार कहते हैं कि नियमानुसार ऐसी तैनाती नहीं की जा सकती है।

प्रभात खबर के मुताबिक, इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. पी के सिन्हा ने कहा कि यह ड्यूटी लालू यादव जी के आवास पर नहीं बल्कि स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव के आवास पर लगाई गई थी, जो हमारे बोर्ड ऑफ गवर्नर्स के चेयरमैन हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि चूंकि संस्थान एक ऑटोनोमस बॉडी है इसलिए हम बिहार सरकार के नियमों से बंधे नहीं हैं। हम परिस्थितियों को देखते हुए पैसले लेते हैं। बता दें कि कुछ महीने पहले लालू यादव पर इसी मंत्री बेटे के तहत आने वाले वन एवं पर्यावरण विभाग को अपने निर्माणाधीन मॉल की मिट्टी बेचने का आरोप लगा था।

फोटो: लालू यादव के बेटे तेजप्रताप ने वृंदावन में की गुप्त पूजा, गाय चराई, दूध निकाला, फिर गोकुल की गलियों में सखा संग घूमे

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App