ताज़ा खबर
 

मुजफ्फरपुर कांड पर प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में नीतीश कुमार ने कसा व्‍यंग्‍य, लगे ठहाके

ब्रजेश ठाकुर का भी बैकग्राउंड पत्रकारिता का ही रहा है। उसके पिता भी पत्रकार थे और उन्होंने ही प्रात:कमल अखबार की स्थापना की थी।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, साथ में हैं डिप्टी सीेएम सुशील मोदी (AP FILE PHOTO)

बिहार के मुजफ्फरपुर में बालिका आश्रय गृह में हुए यौनाचार के मामले में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार (06 अगस्त) को पटना में एक प्रेस कॉन्फ्रेन्स कर कहा कि इस केस में जो कोई भी दोषी होगा उसे बख्शा नहीं जाएगा। जब पत्रकारों ने उनसे पूछा कि केस का मास्टरमाइंड ब्रजेश ठाकुर सरकार के सूचना एवं जनसंपर्क विभाग से पिछले कई दशक से फायदा उठाता रहा है और उसी विभाग में पैठ के बाद उसने समाज कल्याण विभाग में भी घुसपैठ की। तब सीएम नीतीश कुमार ने पत्रकारों से ही पूछ डाला कि क्या आपको पता है कि ब्रजेश ठाकुर को कब से विभागीय लाभ पहुंच रहा था? उन्होंने व्यंग्य किया कि आपलोगों को यह पता होना चाहिए। सीएम ने कहा कि 1989-90 से ही ब्रजेश ठाकुर का अखबार पीआर डिपार्टमेंट से लाभ उठाता रहा है।

सीएम ने कहा, “हमलोग यहां बैठे हैं और हम लोगों के बीच से ही अगर कोई पाप करेगा तो वो बचेगा? और दूसरा व्यक्ति कोई उसके काम के लिए जिम्मेदार होगा?” सीएम ने कहा, “आज तक किसी ने किसी को जाना है जी, लेकिन इतना जान लीजिए, जो पाप करेगा वो बचेगा नहीं।” इस पर जब पत्रकार ने पूछा, “चाहे वह मंजू वर्मा ही क्यों न हो?” तब पलटकर सीएम ने पत्रकार से कहा, “चाहे वो आप ही क्यों न हों?” इसके बाद वहां मौजूद पत्रकार ठहाका लगाने लगे। सीएम ने फिर कहा कि आपका नाम इसलिए लिया कि आपका बैकग्राउंड पत्रकारिता का ही है। बता दें कि ब्रजेश ठाकुर का भी बैकग्राउंड पत्रकारिता का ही रहा है। उसके पिता भी पत्रकार थे और उन्होंने ही प्रात:कमल अखबार की स्थापना की थी।

इसी अखबार की बदौलत ब्रजेश ठाकुर के परिवार ने पहले सूचना एवं जनसंपर्क विभाग में घुसपैठ की और वहां से सरकारी विज्ञापन लेने का फर्जीवीड़ा शुरू किया फिर बाद में दूसरे सरकारी महकमों में घुसपैठ करते हुए कई एनजीओ के माध्यम से सरकारी धनराशि हासिल की। ब्रजेश ठाकुर का पूरा परिवार एनजीओ के खेल में शामिल है। इसे के एनजीओ के तहत समाज कल्याण विभाग का मुजफ्फरपुर बालिका आश्रय गृह संचालित हो रहा था।

देखें: नीतीश कुमार की प्रेस कॉन्फ्रेन्स का पूरा वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App