ताज़ा खबर
 

रामविलास पासवान की जगह पत्नी को राज्यसभा भेजने की चर्चा, पर बीजेपी दे सकती है अपना उम्मीदवार, एलजेपी को धोना पड़ सकता है हाथ

एलजेपी नेता रामविलास पासवान के निधन के बाद बिहार से राज्यसभी की एक सीट पर उपचुनाव होना है। इसमें चिराग की मां का नाम भी सामने आ रहा है लेकिन ज्यादा उम्मीदें हैं कि बीजेपी अपना उम्मीदवार मैदान में उतारेगी।

Author Translated By अंकित ओझा पटना | Updated: November 24, 2020 1:08 PM
ram vilas Paswan, ram vilas Paswan family, ram vilas Paswan wifeरामविलास पासवान (फाइल फोटो)

दिग्गज एलजेपी नेता रामविलास पासवान के निधन के बाद राज्यसभा की सीट खाली है और इसपर उपचुनाव होना है। यह बीजेपी और जेडीयू के रिश्तों को और ज्यादा मजबूत करने का एक सुनहरा मौका हो सकता है। चुनाव के दौरान चिराग पासवान लगातार जेडीयू और सीएम नीतीश कुमार पर हमलावर रहे लेकिन बीजेपी ने अपनी तरफ से उन्हें कोई जवाब नहीं दिया था। हालांकि चिराग की मां रीना पासवान का नाम उपचुनाव की उम्मीदवारी के लिए सामने आ रहा है लेकिन जब तक बीजेपी इस बात पर राजी नहीं होती, उन्हें मैदान में उतारा नहीं जा सकता है।

यह भी संभव है कि बीजेपी राज्यसभा की इस सीट के लिए अपना ही कोई उम्मीदवार उतार दे। 243 सदस्यों वाली विधानसभा में राज्यसभा के लिए 122 विधायकों का समर्थन चाहिए होगा। एनडीए के पास 125 विधायक हैं वहीं एलजेपी ने केवल एक ही सीट जीती थी। चुनाव आयोग ने कहा है कि इस सीट के लिए उपचुनाव 14 दिसंबर को करवाए जाएँगे। 26 नवंबर को नोटिफिकेशन जारी होगा और नामांकन की आखिरी तारीख 3 दिसंबर होगी।

एलजेपी के सत्रों ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि जब तक बीजेपी हां नहीं करती है, अपना कैंडिडेट नहीं उतारा जा सकता है। उन्होंने कहा कि बहुत मुश्किल है कि जेडीयू एलजेपी के उम्मीदवार का समर्थन करेगी।इसलिए मुश्किल है कि चिराग अपना कोई उम्मीदवार उतारें। एक दूसरे शख्स ने कहा कि चुनाव के दौरान एलजेपी ने जेडीयू पर जितना प्रहार किया है, इससे स्पष्ट है कि वह पार्टी का समर्थन नहीं करेगी। बीजेपी के पास एलजेपी से बनी दूरी को कम करने का मौका है लेकिन वह जेडीयू से दूरी बनाने वाला कोई कदम भी नहीं उठाएगी।

एलजेपी अब भी केंद्र में एनडीए के साथ है। उधर आरजेडी एलजेपी के कैंडिडेट को सपोर्ट करने की कोशिश कर सकती है लेकिन चिराग पासवना को शायद यह गवारा न हो क्योंकि वह बीजेपी से ज्यादा दूर नहीं जाना चाहते हैं। एक आरजेडी नेता ने कहा, महागठबंधन के पास 110 विधायक हैं जो कि राज्यसभा की सीट तो नहीं दिलवा सकते हैं लेकिन राजनीतिक रूप से पक्ष दिखा सकते हैं।

बीजेपी की तरफ से भी कुछ नाम सामने आ रहे हैं जिसमें शहनवाज हुसैन, सुशील मोदी, रितुराज सिन्हा का नाम है। हालांकि पार्टी ने अभी कुछ नहीं कहा है। देखना होगा कि बिहार से राज्यसभा में किस पार्टी का उम्मीदवार पहुंचता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 इन सारी गड़बड़ियों के ज़िम्मेदार मेवालाल चौधरी ही हैं, उन्होंने खुद भी माना है- पढ़िए नियुक्ति घोटाले की जांच रिपोर्ट में क्या लिखा है
2 ब‍िहार: पद संभालते ही इस्‍तीफे को मजबूर हुए मेवालाल से पहले शकुनी चौधरी के चलते भी बदनाम हुई है तारापुर सीट
3 नई सरकार से पहले बिहार शर्मसार: बेटे ने प्रेम विवाह किया तो मां को अर्धनग्न कर पीटा, मांग में भरा सिंदूर; छेड़खानी का विरोध करने पर लड़की को जला डाला
आज का राशिफल
X