ताज़ा खबर
 

राजनाथ सिंह पर बिफरे RJD चीफ- देखा कि लालू आ रहा है तो खुद मना कर दिया, पहले बताते तो नहीं हटानी पड़ती कुर्सी

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने दीप जलाकर इस कार्यक्रम की शुरुआत की। उन्होंने देशभर से आए स्वतंत्रता सेनानियों को सम्मानित भी किया।

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, राज्यपाल रामनाथ कोविंद, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, राजद अध्यक्ष लालू यादव और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी दीप जलाकर कार्यक्रम का उद्घाटन करते हुए। (फोटो-PTI)

राष्ट्रीय जनता दल अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने केन्द्रीय गृह मंत्री राजनमाथ सिंह पर हमला बोला है। पटना के श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में चम्पारण सत्याग्रह स्वतंत्रता सेनानी सम्मान समारोह को संबोधित करते हुए लालू यादव ने कहा कि बिहार सरकार ने समारोह में शामिल होने के लिए राजनाथ सिंह को आमंत्रित किया था। इस पर उन्होंने अपनी सहमति भी दी थी लेकिन समारोह में ऐन वक्त पर उन्होंने आने से मना कर दिया। लालू ने तंज कसा कि अगर नहीं आना था तो पहले मना कर देते। यहां मंच पर से कुर्सी और नेम प्लेट हटाने की नौबत नहीं आती। उन्होंने देशी अंदाज में कहा कि जब राजनाथ सिंह को पता चला कि लालू आ रहा है तो पटना आने से मना कर दिया। पहले बताना चाहिए था, कुर्सी, नेम प्लेट नहीं हटाना पड़ता। लालू यहीं नहीं रुके। उन्होंने कहा कि चुनाव में तो हमलोग उन्हें पहले ही खाली पैर लौटा चुके थे। उन्होंने कहा कि चुनाव में हमलोगों ने कट्टरता फैलाने वालों को आइना दिखाया था।

लालू यादव ने कहा कि देश में आज गांधी जी के विचारों को धूमिल किया जा रहा है। गांधी जी के हत्यारे गोडसे की विचारधारा को मानने वाले लोग गांधी जे के दर्शन और विचारों को पीछे छोड़ देना चाहते हैं। देश में राम-रहीम में नफरत फैलाना चाहते हौं और आरक्षण को खत्म करने की कोशिश में लगे हुए हैं। उन्होंने कहा कि हम ऐसा होने नहीं देंगे। लालू यादव ने जोर देकर कहा कि एक तरफ गोडसे का समर्थन करना और दूसरी तरफ गांधी जी को माला पहनाना, यह नहीं चलेगा।

लालू यादव ने वहां मौजूद स्वतंत्रता सेनानियों का आह्वान करते हुए कहा कि आज देश चौराहे पर खड़ा है। उन्होंने सेनानियों से कहा कि आपलोग मार्गदर्शन करें। लालू ने कहा यह कार्यक्रम नीतीश कुमार और लालू यादव का नहीं है। यहां गठबंधन की सरकार है। उन्होंने कहा कि सबको पता है कि गठबंधन किसलिए और किन परिस्थितियों में बना है। लालू यादव ने केन्द्र की मोदी सरकार पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि देश में किसानों की हालत खराब है और सरकार एक रुपये का भी निवेश कराने में नाकाम रही है। उन्होंने कहा कि आरक्षण खत्म करने के लिए मोदी सरकार संविधान में बदलाव करने पर आमादा है।

इससे पहले राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने दीप जलाकर इस कार्यक्रम की शुरुआत की। उन्होंने देश भर से आए स्वतंत्रता सेनानियों को सम्मानित किया। सम्मान पाने वालों में बिहार से कुल 846 और अन्य राज्यों से 262 स्वतंत्रता सेनानी शामिल हैं। राष्ट्रपति ने बिहार सरकार के कार्यों की सराहना भी की। इस मौके पर राज्यपाल रामनाथ कोविन्द भी मौजूद थे। गौरतलब है कि इस कार्यक्रम में केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह, कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को भी शामिल होना तय था लेकिन समारोह शुरू होने से पहले बिहार भाजपा के पूर्व अध्यक्ष मंगल पांडेय ने एक टीवी चैनल से बात करते हुए कहा कि चूंकि इस कार्यक्रम में लालू यादव भी मौजूद रहेंगे, इसलिए राजनाथ सिंह उसमें शामिल नहीं होंगे। भाजपा नेता ने कार्यक्रम का राजनीतिकरण करने का भी आरोप लगाया है।

वीडियो: तीन तलाक पर योगी आदित्यनाथ ने कहा- "जो इस मुद्दे पर चुप हैं वे भी दोषी हैं"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App