ताज़ा खबर
 

गुजरात में रह रहे पति ने फोन पर बोला ‘तलाक,तलाक,तलाक’, तो पत्नी ने पीएम मोदी से लगाई इस कुप्रथा को खत्म करने की गुहार

पीड़ित रूखसार की शादी साल 2010 में इशीपुर थाना क्षेत्र के वनसप्ती गांव के मोहम्मद शाह आलम से हुई थी। फिलहाल उसका चार साल का एक बेटा भी है।

सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि अगर कोई पति एक बार में तीन तलाक बोलता है, तो अब विवाह समाप्त नहीं होगा। (Photo Source: Twitter)

बिहार के भागलपुर जिले के पीरपैंती के एक गांव में गुजरात से आए एक फोन कॉल ने एक परिवार में कोहराम मचा दिया। कुजबन्ना गांव यानी मायके में रह रही रूखसार का पति मोहम्मद शाह आलम गुजरात में काम करता है। उसने फोन कर अपनी पत्नी रूखसार को तलाक दे दिया। फोन पर इस तरह तलाक सुनकर रूखसार के पैरों तले जमीन खिसक गई। उसे बड़ा सदमा लगा है। वो बीमार पड़ गई है। मामला 27 मार्च का है। इसका खुलासा तब हुआ जब उसके घर सरपंच और पूर्व मुखिया पहुंचे।

रूखसार की शादी साल 2010 में इशीपुर थाना क्षेत्र के वनसप्ती गांव के मोहम्मद शाह आलम से हुई थी। फिलहाल उसका चार साल का एक बेटा भी है। इस घटना से आहत रूखसार ने ऐसी प्रथा के खिलाफ आवाज बुलंद की है। उसका कहना है कि वो तलाक नहीं लेना चाहती है। उसने मोदी सरकार से ऐसी कुप्रथा पर रोक लगाने की भी मांग की है। रूखसार का कहना है कि तीन तलाक की वजह से उसके धर्म की कई महिलाओं की जिंदगी तबाह हो रही है।

बता दें, मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों के लिए काम करने वाले संगठन ‘भारतीय मुस्लिम महिला आंदोलन’ (बीएमएमए) ने हाल ही में तीन तलाक की व्यवस्था को खत्म करने की मांग को लेकर देश भर से 50,000 से अधिक महिलाओं के हस्ताक्षर लिए और राष्ट्रीय महिला आयोग से इस मामले में मदद मांगी। बीएमएमए की संयोजक नूरजहां सफिया नियाज का कहना है, ‘मुस्लिम महिलाओं को भी संविधान में अधिकार मिले हुए हैं और अगर कोई व्यवस्था समानता और न्याय के बुनियादी सिद्धांतों के खिलाफ है तो उसमें बदलाव होना चाहिए।’

वीडियो: मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट से कहा- "तीन तलाक इस्लाम से जुड़ा है, आप नहीं दे सकते दखल"

सुप्रीम कोर्ट ने तीन तलाक को मानवाधिकार का मुद्दा बताया; 11 मई तक होगा सभी याचिकाओं का निपटारा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App