ताज़ा खबर
 

पहले नाबालिग बेटे ने किया रेप , फिर प्रिंसिपल ने बनाया शिकार’, रेप पीड़िता ने सुनाई गैंगरेप की दिल दहला देने वाली कहानी

इस पूरे मामले की जांच के लिए पुलिस ने 5 सदस्यीय जांच टीम का गठन किया है। छपरा सदर के डीएसपी अजय कुमार सिंह इस टीम के प्रमुख बनाए गए हैं। पुलिस का कहना है कि इस मामले में 18 आरोपियों के खिलाफ पोक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है।

प्रतीकात्मक तस्वीर (Photo credit- Indian express)

बिहार के सारण जिले में स्कूल के प्रिंसिपल समेत 18 लोगों पर गैंगरेप का आरोप लगाने वाली नाबालिग छात्रा ने चौंकाने वाले खुलासे किये हैं। लड़की ने अपनी एफआईआर में पुलिस को जो बातें बताई हैं उसे सुनकर पुलिस के भी होश गुम हैं।

प्रिंसिपल के बेटे भी किया रेप: हिन्दुस्तान टाइम्स के मुताबिक पीड़ित लड़की ने अपने एफआईआर में कहा है कि पिछले साल दिसंबर में चाकू के दम पर उसके साथ बलात्कार करने वाले 18 लोगों में प्रिंसिपल का बेटा भी शामिल है। पीड़ित बच्ची ने कहा है कि आरोपी ने उस वक्त रेप का वीडियो भी बनाया था और उसे धमकी दी थी कि अगर उसने किसी को भी इस घटना के बारे में बतलाया तो वह यह वीडियो सरेआम कर देगा।

प्रिंसिपल ने खून के धब्बों को धोने के लिए कहा: लड़की ने पुलिस को बतलाया है कि शौचालय में उसके साथ गैंगरेप किया गया। गैंगरेप के बाद बाहर निकलते वक्त प्रिंसिपल ने उसकी हालत और कपड़े पर लगे खून के धब्बों को देखकर उसे अपने चैंबर में बुलाया। पीड़िता ने अपने साथ हुई ज्यादती की कहानी प्रिंसिपल को बतलाई। लेकिन बजाए इसके कि प्रिंसिपल आरोपियों पर कोई कड़ी कार्रवाई करते उन्होंने बच्ची को घर जाने से पहले वॉशरुम में जाकर अपने कपड़े साफ करने और खून के धब्बे धोने के लिए कहा।

10 दिन बाद प्रिंसिपल ने किया रेप: बच्ची ने एफआईआर में बतलाया कि इस घटना के 10 दिनों बाद जब वो स्कूल आई तो प्रिंसिपल ने उसे अपने कमरे में बुलाकर उसके साथ दुष्कर्म किया। इतना ही नहीं स्कूल के प्रिंसिपल ने उसे धमकी दी कि अगर उसने मुंह खोला तो वो उसका भविष्य बर्बाद कर देंगे। प्रिंसिपल और शिक्षकों ने उसे धमकी देकर बार-बार उसके साथ रेप किया।

5 जुलाई को हुआ गैंगरेप: पीड़ित बच्ची ने बतलाया कि इसी महीने की 5 तारीख को पांच और छात्रों ने उसके साथ गैंगरेप किया। इस घटना के बाद पीड़ित बच्ची ने 6 जुलाई को पुलिस में मामला दर्ज कराया।

5 सदस्यीय टीम कर रही है जांच: इस पूरे मामले की जांच के लिए पुलिस ने 5 सदस्यीय जांच टीम का गठन किया है। छपरा सदर के डीएसपी अजय कुमार सिंह इस टीम के प्रमुख बनाए गए हैं। पुलिस का कहना है कि इस मामले में 18 आरोपियों के खिलाफ पोक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है।  लड़की के मुताबिक प्रिंसिपल, दो शिक्षक समेत 18 लोगों ने उसके साथ दुष्कर्म किया। पीड़ित ने पुलिस को बतलाया कि पिछले सात महीने से उसे धमकियां देकर उसके साथ बार-बार दुष्कर्म किया जा रहा था।

पुलिस के मुताबिक एफआईआर में कहा गया है कि प्रिंसिपल के नाबालिग लड़के ने भी पीड़िता के साथ दुष्कर्म किया। पुलिस का कहना है कि इस मामले में अब तक 7 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है और अन्य आरोपियों को पकड़ने के लिए प्रयास किये जा रहे हैं।

Next Stories
1 बेटे की टिप्पणी से आहत नीतीश बोले- अब नहीं करूंगा लालू यादव को फोन!
2 बिहार: ‘माय’ समीकरण के 30% वोट बैंक में सेंधमारी का प्लान- 10000 लोगों को ट्रेनिंग देंगे अमित शाह
3 आरजेडी और एलजेपी में नजदीकियां! चिराग पासवान के बयान से लगने लगीं अटकलें
आज का राशिफल
X