ताज़ा खबर
 

बिहार में ‘खीर’ पका रहे केन्द्रीय मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा ने मारी पलटी, बोले- ना राजद से दूध मांगा, ना ही बीजेपी से चीनी

उपेन्द्र कुशवाहा जेडीयू अध्यक्ष नीतीश कुमार से बिहार के सीएम पद को छोड़ने की मांग कर चुके हैं। उपेन्द्र कुशवाहा का कहना है कि नीतीश कुमार बिहार में 15 साल शासन कर चुके हैं और अब उन्हें ये पद छोड़ देना चाहिए।

RLSP, JDU, Nitish kumar, Upendra kushwaha, bihar chief minister, Muzaffarpur, Muzaffarpur mayor killed, Crime news, Bihar news, News in hindi, Jansatta newsराष्‍ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा। फोटो- एक्सप्रेस आर्काइव।

एनडीए में साझेदार और केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा के खीर वाले ​बयान से बिहार की सियासत में दूरगामी मायने नि​काले जा रहे थे। लेकिन अपने बयान के ठीक एक दिन बाद उपेंद्र कुशवाहा ने सारी तस्वीर साफ कर दी है। उन्होंने कहा कि हमने न तो राजद से दूध न मांगा है और न ही भाजपा से चीनी। हम सामाजिक समरसता के समर्थक हैं। जिसे जो अर्थ लगाना हो लगाता रहे। वैसे बता दें राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा पहले भी इशारों में अपने असंतोष को जताते रहे हैं।

समाचार एजेंसी एएनआई के साथ बातचीत में केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने कहा,” खीर के लिए यदूवंशी के घर का दूध, कुशवंशी के घर का चावल, अतिपछड़ा के घर का पंचमेवा, ब्राह्मण के घर से चीनी, दलित के आंगन से तुलसी दल और मिल बैठकर खाने के लिए मुसलमान भाई के दस्तरखान की जरूरत है। हमने न राजद से दूध मांगा है और न ही भाजपा से चीनी। यदूवंशी का अर्थ न तो राजद है और न ब्रह्मर्षि का अर्थ कोई खास दल । रालोसपा सभी जमात की ओर दोस्ती का हाथ बढ़ाना चाहती है । यदूवंशी की ओर भी । हम अपनी पार्टी के जनाधार को व्यापकता देने के लिए ऐसा करेंगे । जिन्हें जो अर्थ लगाना हो लगाते रहें।”

वैसे बता दें उपेंद्र कुशवाहा के पहले दिए गए बयान से बिहार में ये कयास लगाए जाने लगे थे कि वह एनडीए का साथ छोड़कर महागठबंधन की ओर जा सकते हैं। उपेन्द्र कुशवाहा शनिवार (25 अगस्त) को मंडल कमीशन के अध्यक्ष बीपी मंडल की जन्म शती पर आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे। उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा,” यहां बहुत बड़ी संख्या में यदुवंशी समाज के लोग जुटे हैं, यदुवंशियों का दूध और कुशवंशियो का चावल मिल जाये तो खीर बनने में देर नहीं…लेकिन खीर बनाने के लिए केवल दूध और चावल ही नहीं…छोटी जाति और दबे-कुचले समाज का पंचमेवा भी चाहिए…तब खीर जैसा स्वादिष्ट व्यंजन बन सकता है…यही सामाजिक न्याय की परिभाषा है।” उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा कि इस स्वादिष्ट व्यंजन को बनने से कोई नहीं रोक सकता है।”

उपेंद्र कुशवाहा के बयान के मायने समझते हुए पूर्व डिप्टी सीएम और राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के बेटे तेजस्वी यादव ने उनका स्वागत किया था। तेजस्वी ने जवाब दिया था, “निःसंदेह उपेन्द्र जी, स्वादिष्ट और पौष्टिक खीर श्रमशील लोगों की जरुरत है। पंचमेवा के स्वास्थ्यवर्धक गुण ना केवल शरीर बल्कि स्वस्थ समतामूलक समाज के निर्माण में भी ऊर्जा देते हैं। प्रेमभाव से बनायी गई खीर में पौष्टिकता, स्वाद और ऊर्जा की भरपूर मात्रा होती है। यह एक अच्छा व्यंजन है।”

बता दें कि उपेन्द्र कुशवाहा जेडीयू अध्यक्ष नीतीश कुमार से बिहार के सीएम पद को छोड़ने की मांग कर चुके हैं। उपेन्द्र कुशवाहा का कहना है कि नीतीश कुमार बिहार में 15 साल शासन कर चुके हैं और अब उन्हें ये पद छोड़ देना चाहिए। आरएलएसपी के नेता उपेन्द्र कुशवाहा को बिहार के सीएम पद का कैंडिडेट घोषित करने की मांग कर चुके हैं। बिहार में लोकसभा चुनाव को लेकर सीटों के बंटवारे पर भी फेंच फंसा हुआ है। आरएलएसपी जेडीयू से ज्यादा सीटें मांग रही है। 2014 में एनडीए के साथ मिलकर RLSP ने 3 सीटें जीती थीं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 बिहार: राखी खरीद कर आ रही युवती की गोली मारकर हत्या
2 बिहार को नशामुक्त बनाने के लिए अभियान चलाएगी राज्य सैन्य पुलिस, हर जिले में बनेंगे यूथ ब्रिगेड
3 एक ही दिन लालू परिवार पर दोहरी मार- पहले बेल पिटीशन खारिज, अब तीन लोगों पर चार्जशीट
यह पढ़ा क्या?
X