ताज़ा खबर
 

सृजन घोटाले में सीबीआई ने शुरू की जांच, दर्ज की पहली एफआईआर

सृजन महिला सहयोग समिति ने सरकारी विभाग और दो बैंकों के कर्मचारियों-अधिकारियों की सांठगांठ से फर्जीवाड़ा कर 884 करोड़ रुपए का चूना सरकारी खाते को लगाया है।

Author August 26, 2017 2:28 PM
Srijan Scam, Srijan Scam in bihar, Srijan Scam in Bhagalpur, 2017 for Bhagalpur, Bhagalpur 2017, Bhagalpur 2017 report, Bhagalpur District, Bhagalpur District in 2017, crime in Bhagalpur, Corruption in Bhagalpur, State newsभागलपुर स्थित सृजन एनजीओ का दफ्तर। (फोटो- जनसत्ता)

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने शनिवार को कहा कि उसने बिहार में 1,000 करोड़ रुपये के सृजन घोटाला मामले में एक गैर-सरकारी संगठन (एनजीओ) के अधिकारियों तथा कई बैंक अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। सीबीआई ने शुक्रवार को भागलपुर स्थित एनजीओ सृजन महिला विकास समिति की निदेशक मनोरमा देवी और बैंक ऑफ बड़ौदा के कई शाखा प्रबंधकों तथा अधिकारियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी। केंद्रीय गृह मंत्रालय से 24 अगस्त को मंजूरी मिलने के बाद उक्त कार्रवाई की गई। सीबीआई ने अपनी नई प्राथमिकी में तत्कालीन कैशियर व विशेष भूमि अधिग्रहण कार्यालय के सहायक प्रमुख के खिलाफ भी मामला दर्ज किया है।

एफआईआर में धोखाधड़ी, आपराधिक साजिश रचने, जालसाजी, आपराधिक उल्लंघन के आरोप लगाए गए हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आदेश पर मामले की जांच शुरू करने वाली बिहार पुलिस की विशेष जांच टीम इस मामले में अब तक 14 प्राथमिकी दर्ज कर चुकी है और 18 आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है।

सृजन घोटाला एक स्वयंसेवी संस्थान सृजन महिला विकास समिति द्वारा सरकारी खातों से फर्जी तरीके से 1000 करोड़ रुपये से ज्यादा रकम हस्तांतरित कर उसका निजी उपयोग से जुड़ा है। विपक्ष की मांग पर बिहार सरकार ने मामले की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो से कराने की अनुशंसा की है।

सृजन महिला सहयोग समिति ने सरकारी विभाग और दो बैंकों के कर्मचारियों-अधिकारियों की सांठगांठ से फर्जीवाड़ा कर 884 करोड़ रुपए का चूना सरकारी खाते को लगाया है। घोटाले की इस रकम में और इजाफा होने से इनकार नहीं किया जा सकता है क्योंकि अभी दूसरे विभागों में भी पटना से आई वित्त विभाग की टीम रात-दिन ऑडिट करने में जुटी है। एनजीओ सृजन के तार झारखंड के रांची से भी जुड़े हैं। सृजन की संस्थापक मनोरमा देवी और उनकी पुत्रवधू प्रिया कुमार का मायका रांची ही है। फिलहाल प्रिया ही सृजन की सचिव हैं और फरार हैं।

इनके पिता कांग्रेसी नेता हैं, इसलिए कांग्रेस से भी इनके मधुर रिश्ते रहे हैं। रांची के एक बड़े कांग्रेसी नेता जो केंद्र में मंत्री भी रहे हैं, वे भी सृजन के जलसे में शिरकत करते रहे हैं। मनोरमा देवी के पति अवधेश कुमार रांची में वैज्ञानिक की नौकरी करते थे। वे भागलपुर के गोसाई गांव के थे। इनके निधन के बाद मनोरमा अपने बच्चों के साथ भागलपुर आ गई थीं और सबौर में एक किराए के मकान में रहने लगी। यह 1992-1993 की बात है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 शरद यादव को JDU से निकालने की प्रक्रिया शुरू, लालू की रैली में शामिल होने के खिलाफ मिली चिट्ठी
2 नीतीश की चेतावनी के बावजूद लालू की रैली में शामिल होंगे शरद यादव, पार्टी पर भी करेंगे दावा
3 बिहार: नीतीश राज में 2 बेटियों की हत्या, पत्नी पर जानलेवा हमले के बाद आरोपी फरार
ये पढ़ा क्या?
X