ताज़ा खबर
 

बिहार: मानसिक रूप से बीमार महिला को अस्पताल ने मुहैया नहीं कराया स्ट्रेचर, घसीटकर ले गया मजबूर पति

मानसिक रूप से बीमार महिला को चार दिन पहले अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

Author पटना | Updated: March 30, 2017 6:55 PM
मानसिक रूप से बीमार पत्नी को दूसरों की मदद से घसीटकर ले जाता पति। ( Photo Source: ANI)

बिहार के आरा जिले में मानसिक रूप से बीमार एक महिला को अस्पताल में घसीटने का मामला सामने आया है। आरोप है कि महिला के पति को अस्पताल के स्टाफ ने स्ट्रेचर नहीं दिया, जिसकी वजह से उस महिला को घसीटकर वार्ड में शिफ्ट किया गया। बुधवार को हुई इस घटना के बारे में जब अस्पताल प्रबंधन से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि 32 साल की शकुंतला देवी मानसिक रूप से बीमार हैं। अस्पताल में काफी स्ट्रेचर है, हमने उन्हें इसके लिए मना नहीं किया। महिला के पति अनिल शाह का कहना है कि वह अपनी पत्नी को ओपीडी में इंजेक्शन लगवाने के लिए ले गया था। वहां पर जब अस्पताल स्टाफ से स्ट्रेचर मांगा तो उन्होंने मना कर दिया और कहा कि स्ट्रेचर नहीं है।

शाह ने कहा, ‘मेरे पास कोई विकल्प नहीं था। मैं एक अस्पताल स्टाफ और एक दूसरे मरीज के रिश्तेदार की मदद से अपनी पत्नी को वार्ड में वापस लेकर आया।’ अस्पताल के डिप्टी सुप्रिटेंडेंट डॉ. सतिश कुमार सिन्हा ने कहा, ‘मरीज जब वार्ड में भर्ती है तो उसे इंजेक्शन के लिए ओपीडी में ले जाने की क्या जरूरत है। मरीज ओपीडी में इधर-उधर घूम रहा था। उसके पति ने मरीज को दूसरों की मदद से पकड़ा और उसे वार्ड में वापस ले गया। हमसे किसी ने स्ट्रेचर नहीं मागा। अस्पताल में काफी स्ट्रेचर मौजूद हैं।’ देवी को मानसिक संतुलन बिगड़ने की लक्षणों के बाद आरा सदर अस्पताल के मेडिकल वार्ड में चार दिन पहले भर्ती कराया गया था।

हालांकि, यह पहली घटना नहीं है, ऐसी कई मामले पहले भी सामने आए हैं। इससे पहले कर्नाटक के हुबली जिले में एक सरकारी अस्पताल में एक ही स्ट्रेचर पर चार प्रेग्नेंट महिलाओं को लाया गया था। जब यह मामला सामने आया तो अस्पताल के सुप्रिटेंडेंट डॉ. शिवाप्पा अनुर शेट्टी ने कहा था, ‘अस्पताल में स्ट्रेचर की कमी नहीं है। यह केवल स्टाफ की अक्षमता है कि वे ऐसी स्थिति में कैसे मैनेज करते।’

पिछले साल आंध्र प्रदेश के अनंतपुर जिले के एक अस्पताल में भी ऐसा ही मामला देखने को मिला था, जहां एक महिला अपने पति को सरकारी अस्पताल में घसीटकर लाई थीं। रिपोर्ट्स के मुताबिक अस्पताल स्टाफ ने कथित तौर पर उस महिला को भी स्ट्रेचर देने से मना कर दिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 बिहार में पूर्ण शराबबंदी के लिए सम्‍मानित हुए नीतीश कुमार, जैन समुदाय ने दिया ‘अणुव्रत पुरस्कार’
2 नीतीश राज में ठीक से लागू नहीं की गईं सरकारी योजनाएं, सीएजी की रिपोर्ट में खुली पोल
ये पढ़ा क्या?
X