ताज़ा खबर
 

तलवार लेकर जुलूस का फेसबुक लाइव किया, फिर भी नहीं पकड़ पाई पुलिस, बेल के लिए कोर्ट गया केंद्रीय मंत्री का बेटा

25 मार्च को अर्जित राजधानी पटना में तलवारों के साथ जुलूस में शामिल हुए। लेकिन, पुलिस उन्‍हें पकड़ नहीं पा रही है।
भागलपुर में दंगा भड़काने के आरोपी केंद्रीय मंत्री अश्वनी चौबे के बेटे अर्जित शाश्वत(बीच में भगवा गमछा) हाथ में तलवार लेकर जुलूस निकालते हुए(फोटो-फेसबुक)

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार में स्‍वास्‍थ्‍य राज्‍य मंत्री अश्‍विनी चौबे के बेटेे अर्जित शाश्‍वत ने अग्रिम जमानत याचिका दायर की है। उनकी तरफ से वकील वीरेश मिश्रा ने भागलपुर की अदालत में अग्रिम जमानत के लिए अर्जी भी दे दी है। इस पर मंगलवार को सुनवाई हो सकती है। उधर, सोमवार (26 मार्च) को यह मामला बिहार विधानसभा में भी उठा। विपक्ष ने नीतीश सरकार से पूछा कि वह शाश्‍वत को गिरफ्तार क्‍यों नहीं कर पा रही है। उनके खिलाफ 24 मार्च को ही वारंट जारी हो चुका है। 25 मार्च को अर्जित राजधानी पटना में तलवारों के साथ जुलूस में शामिल हुए। लेकिन, पुलिस उन्‍हें पकड़ नहीं पा रही है। बताया जा रहा है कि अर्जित के खिलाफ कोर्ट से गिरफ्तारी वारंट हासिल करने के बाद जिले के एसएसपी मनोज कुमार ने उसकी गिरफ्तारी के लिए एक पुलिस की एक टीम पटना भी भेजी थी। इतना ही नहीं पटना के एसएसपी को भी इस बात की जानकारी भी है। लेकिन अर्जित अभी तक पुलिस की पकड़ से दूर है।

अर्जित पर भागलपुर (बिहार) में 17 मार्च को बिना इजाजत जुलूस निकालने का आरोप है। इस जुलूस के दौरान सांप्रदायिक हिंसा भड़क गई थी। अर्जित पर भड़काऊ भाषण देने का आरोप भी लगा है। बीते 17 मार्च को हुए सांप्रदायिक हिंसा को लेकर अर्जित के अलावा 9 लोगों पर एफआईआर दर्ज कराई गई थी। इन सभी के खिलाफ पुलिस ने सीजेएम की अदालत मे अर्जी देकर वारंट मांगा था। प्रभारी सीजेएम एके श्रीवास्तव ने शनिवार को ही गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया था। 25 मार्च को पटना में जुलूस का फेसबुक लाइव करने के बाद से उनका मोबाइल नंबर डायल करने पर बंद बताया जा रहा है।

अर्जित ने वर्ष 2015 में भागलपुर से विधानसभा का चुनाव भी लड़ा था, हालांकि उनकी हार हुई थी। सोमवार (26-03-2018) को पटना में विपक्षी नेताओं ने इस मामले को लेकर सरकार के खिलाफ जमकर नारे लगाए और अर्जित की गिरफ्तारी की मांग की। सांसद पप्पू यादव ने भागलपुर स्टेशन से नाथनगर तक शांति मार्च भी निकाला। अश्विनी चौबे पहले ही अपने बेटे का बचाव कर चुके हैं। उनका कहना है कि एक साजिश के तहत उनके बेटे को फंसाया जा रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App