ताज़ा खबर
 

एएसपी ने क‍िया स्ट‍िंंग, एसएसपी ने द‍िया 12 पुल‍िसकर्म‍ियों को सस्‍पेंड करने का ऑर्डर

ओवरलोड ट्रकों से वसूली करने वाले 12 पुलिसकर्मियों को भागलपुर जिले के एसएसपी ने मंगलवार (5 जून) को निलंबित कर दिया है। कार्रवाई कहलगांव एएसपी की उस जांच रिपोर्ट के बाद हुई है, जिसमें उन्होंने खुद ट्रक ड्राइवर बनकर पुलिसकर्मियों को रिश्वत दी थी।

छापे के दौरान खनन माफिया से बरामद रकम दिखाते भागलपुर के एसएसपी आशीष भारती। फोटो- जनसत्‍ता

बिहार में खनन माफिया और ओवरलोड ट्रकों से वसूली करने वाले 12 पुलिसकर्मियों को भागलपुर जिले के एसएसपी ने मंगलवार (5 जून) को निलंबित कर दिया है। निलंबित होने वालों में दो अवर निरीक्षक भी हैं। ये कार्रवाई कहलगांव के एएसपी की उस जांच रिपोर्ट के बाद की गई है, जिसमें उन्होंने खुद ओवरलोड ट्रक का ड्राइवर बनकर पुलिसकर्मियों को ट्रक गुजारने के लिए रिश्वत दी थी। पुलिसकर्मियों पर हुई इस कार्रवाई ने बालू माफिया और पुलिस के गठजोड़ का सच उजागर कर दिया है।

बताया गया कि भागलपुर और बांका रेंज में नदी के तटबंध को तोड़कर बालू माफिया लगातार खनन कर रहे थे। इसकी शिकायतें भी आ रही थीं लेकिन पुलिस से सांठगांठ होने के कारण बालू लदे ओवरलोड न सिर्फ निकाले जा रहे थे ​बल्कि हर ट्रक पर कमिशन भी पुलिस वसूल रही थी। भागलपुर और बांका जिले बालू और मिट्टी के अवैध कारोबार का गढ़ बन चुके थे। पुलिस, खनन और परिवहन विभाग की मिलीभगत बीते 26 मई को सामने आ गई। जब कहलगांव के एसएसपी दिलनवाज अहमद ने खुद ओवरलोड ट्रक का ड्राइवर बनकर स्टिंग आॅपरेशन किया था।

एएसपी दिलनवाज अहमद झारखंड की सीमा मिर्जाचौकी से भागलपुर तक ओवर लोड ट्रक चलाते पहुंचे। इस दौरान वह अपने ही मातहत पुलिस अधिकारियों को ट्रक पास करवाने के लिए 100-50 रुपये रिश्वत देकर ट्रक निकालते चले गए। बाद में उन्होंने उसी रात दलालों के अड्डे पर छापेमारी भी की। चार दलालों को गिरफ्तार करके उनके कब्जे से 12 लाख 23 हजार रुपए नकद और दलाल लालू मंडल की डायरी बरामद की थी। भागलपुर के एसएसपी आशीष भारती ने बताया,”निलंबित पुलिसकर्मी थाना पीरपैंती और घोघा में तैनात थे। इनकी ड्यूटी मिर्जा चौकी से लेकर घोघा तक लगी थी। इनमें चार होमगार्ड के जवान है। जिनका अनुबंध खत्म करने के लिए ज़िलाधीश को पत्र लिखा गया है।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App