ताज़ा खबर
 

फेसबुक, ट्विटर, व्हाटसअप पर भड़काऊ पोस्ट कॉपी, पेस्ट या फॉरवर्ड किया तो यूजर समेत ग्रुप एडमिन पर होगी कार्रवाई

सोशल मीडिया के जरिए भड़काऊ या आधारहीन संदेश भेजने पर ग्रुप एडमिन की जिम्मेवारी होगी और ऐस लोगों के खिलाफ आईटी एक्ट और आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।
सोशल मीडिया।

अगर आपने बिना सोचे समझे सोशल मीडिया पर कोई भी पोस्ट किया तो आपको लेने के देने पड़ सकते हैं। बिहार में भागलपुर के जिलाधिकारी और एसएसपी ने संयुक्त हस्ताक्षर कर एक आदेश पारित किया है जिसमें कहा गया है कि अगर किसी शख्स ने तथ्यहीन या भड़काऊ सामग्री सोशल मीडिया पर पोस्ट, कॉपी-पेस्ट या फॉरवर्ड किया तो न केवल उसके खिलाफ बल्कि ग्रुप के एडमिन के खिलाफ भी आईटी एक्ट और आईपीसी की धाराओं के तहत सख्त कार्ररवाई की जाएगी। जिलाधिकारी आदर्श तितरमारे और वरीय पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार के संयुक्त हस्ताक्षर से 14 अप्रैल को जारी आदेश में कहा गया है कि सोशल मीडिया के जरिए भड़काऊ या आधारहीन संदेश भेजने पर ग्रुप एडमिन की जिम्मेवारी होगी और ऐस लोगों के खिलाफ आईटी एक्ट और आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी। साथ ही जारी पत्र में लिखा है कि अभिव्यक्ति की आजादी अत्यंत महत्वपूर्ण है लेकिन देखा जा रहा है कि सोशल मीडिया पर बने ग्रुप के माध्यम से बगैर सिर-पैर के संवाद डाले जा रहे हैं जिसकी सत्यता प्रमाणित नहीं होती है। इसलिए ग्रुप एडमिन को भी आगाह किया जाता है कि बगैर पहचान वाले को ग्रुप में शामिल न करें और ग्रुप एडमिन भी वही बनें जो हरेक तरह की जिम्मेवारी लेने को तैयार हों क्योंकि इन दिनों अफवाहों का बाजार गर्म है। धार्मिक और कौमी भावना भड़काने की वजह से माहौल को शांत करने में प्रशासन को काफी मशक्कत करनी पड़ रही है।

दरअसल, इस साल गणतंत्र दिवस यानी 26 जनवरी के दिन से ही शरारती तत्व भागलपुर का अमन-चैन बिगाड़ने की फिराक में हैं। इसमें भू-माफिया भी पर्दे के पीछे से रोल निभा रहे हैं और प्रशासन पूरी ताकत झोंककर शरारती तत्वों के मंसूबे को नाकाम करने में लगा है। बावजूद इसके जिले के आला अफसर अंदर से परेशान हैं। इसकी बानगी देखने को मिली शुक्रवार की शाम को जब यह फरमान जारी किया गया कि अब सोशल मीडिया पर तथ्यहीन संदेश पोस्ट करने वाले और उसके ग्रुप एडमिन के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

भागलपुर के डीएम और एसएसपी के संयुक्त हस्ताक्षर से जारी आदेश। (फोटो-गिरधारी लाल जोशी)

दरअसल, शरारती तत्वों ने रामनवमी के तीसरे दिन जिले के मोजाहिदपुर थाना क्षेत्र के एक मंदिर चबूतरे पर मांस के टुकड़े बोतल में बंद कर रख दिए गए थे और अनाप-शनाप लिख दिया था। इसको देखते ही इलाके में अफवाह फैलने लगी। एहतियातन ज़िला प्रशासन ने जिले में इंटरनेट सेवा बंद करने का आदेश दिया और पुलिस बल को भारी तादाद में तैनात कर दिया। अधिकारियों ने इस बीच कई बार शांति समिति की बैठक की ताकि हालात पर काबू पाया जा सके। करीब चार दिन बाद जिले में इंटरनेट सेवा बहाल की गई।

इससे पहले मोजाहिदपुर थाना क्षेत्र के ही अम्बे पोखर को लेकर शरारती तरवों और भू-माफिया ने मिलकर 26 जनवरी, गणतंत्र दिवस के मौके पर भारी बखेड़ा खड़ा कर दिया था। यहां बने एक पुराने मंदिर से हनुमान मूर्ति हटाई जा रही थी। यह काम और कोई नहीं तत्कालीन एसडीओ और जगदीशपुर अंचल के अधिकारी जबरन कर रहे थे जिसका बड़ा विरोध हुआ। हालात काबू में करने के लिए पुलिस को हवाई फायरिंग करनी पड़ी। भागलपुर के जिलाधीश आदर्श तितरमारे ने इस संवाददाता को बताया कि भीड़ को काबू में करने के लिए पुलिस को छह राउंड हवाई फायरिंग करनी पड़ी थी। वहां पहली फरवरी तक धारा 144 लागू लगा दिया गया था और एडीएम हरिशंकर प्रसाद को मजिस्ट्रेट जांच का जिम्मा सौंपा गया लेकिन तीन महीने बीत जाने के बाद भी जांच पूरी नहीं हो पाई है।

असल में यह काम भू-माफिया को फायदा पहुंचाने के लिए किया गया था। इनकी नजर पोखर पर लगी है। और ये चाहते हैं कि मंदिर को किसी तरह हटवा दिया जाए तो पोखर को भरवाकर करोड़ों की कमाई की जा सकती है। इसमें प्रशासन के निचले अफसर भी इस्तेमाल किए गए। मगर ऐसा नहीं हो सका और बड़ा बवाल खड़ा हो गया। इस खेल को भी सभी समझ रहे हैं लेकिन चुप्पी साधे हैं और डीएम सर्वोच्च न्यायालय के आदेश का हवाला देते हैं कि सरकारी जमीन पर कोई भी नया निर्माण नहीं होगा।

खैर, जो हो। अब इन्हीं लोगों की वजह से अधिकारियों को यह आदेश जारी करना पड़ा। ताकि शरारती तत्व खबरदार हो जाएं। मगर शरारती तत्व भी रह रहकर प्रशासन और आमजनों को परेशान करने में जुटा है। इसलिए सामाजिक माहौल बिगाड़ने में वे लोग कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे। ज़िले के अफसर और शांति समिति भी उनकी करतूत की काट में लगे हुए हैं। सबसे बड़ी बात कि भागलपुर के लोग 1989 का भीषण दंगा झेलने के बाद अब दोबारा ऐसी किसी भी घटना से सख्ती से निपटने की बात करते हैं।

वीडियो: सिंह राशि वालों के लिए 16 अप्रैल-22 अप्रैल का राशिफल

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.