ताज़ा खबर
 

बिहार: जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहे कैदी ने शेयर की सेल्फी तो सोशल मीडिया पर मचा बवाल

सिन्हा ने बताया कि हिमांशु साहंबगंज थाना के चौकीदार के बेटे की हत्या करने के जुर्म में आजीवन कारावास की सजा काट रहा है।

Sheila Dixit son in law, Sheila Dixit son in law News, Sheila Dixit son in law latest news, Sheila Dixit daughterचित्र का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।

बिहार में सुशासन बाबू के राज में अपराधियों के हौसले कितने बुलंद है यह तो खुद एक कैदी बयां कर रहा है। इस कैदी का नाम हिमांशु सिंह है। हिमांशु को आजीवन कारावास की सजा मिली है। हिमांशु ने अपने फेसबुक पर एक फोटो पोस्ट की है, जिससे साफ जाहिर होता है कि जेल में कैदियों को स्मार्ट फोन मुहैया कराए जा रहे है। यह मामला सोमवार को सामने आया जब हिमांशु की यह फोटो हर जगह वायरल होने लगी। इस बारे में जब जेल प्रशासन ने हिमांशु से पूछा तो उसने कहा कि वह उसकी दो साल पुरानी फोटो है जो कि अब वायरल हो रही है। हिमांशु मुजफ्फरपुर के शहीद खुदीराम बोस सेंट्रल जेल में बंद है। हिमांशु की इस फोटो के वायरल होने के सोशल मीडिया पर भी बवाल मच गया है।

इस मामले के बारे में जब जेलर मधुबाला सिन्हा से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि हिमांशु से पूछताछ की गई। हिमांशु ने उनसे कहा कि यह फोटो 2013 की है। यह तस्वीर उसके साथी कैदी ने खींची थी जो कि 2015 में जेल से मुक्त हो गा था। सिन्हा ने बताया कि हिमांशु साहंबगंज थाना के चौकीदार के बेटे की हत्या करने के जुर्म में आजीवन कारावास की सजा काट रहा है। उन्होंने बताया कि हिमांशु ने फेसबुक पर कई कुख्यात अपराधियों के साथ जेल के अंदर की फोटो डाली हैं। सिन्हा ने बताया कि इस मामले के सामने आते ही हिमांशु को जेल वार्ड से निकालकर सेल में डाल दिया गया है। उन्होंने बताया कि इस घटना को गंभीरता से लेते हुए पूरे जेल की तलाशी ली गई लेकिन वहां किसी भी तरह का मोबाइल या चार्जर नहीं मिली।

इस घटना के बाद पूरे पुलिस महकमे में हड़कंप मचा हुआ है। लोग बिहार सरकार पर निशाना साध रहे हैं। लोगों का कहना है कि जेल में कैदियों को हर प्रकार की सुविधाएं मुहैया कराई जा रही है। ऐसे में जेल प्रशासन पर भी सवाल खड़े होते हैं। अगर जेल में कड़ी सुरक्षा रखी जाती है तो कैदियों तक मोबाइल जैसे उपकरण कैसे पहुंचते हैं। इसके साथ ही यह सवाल भी खड़ा होता है कि जेल में कैदियों के लिए नेट की सुविधा है तभी कैदी आसानी से सोशल साइट का इस्तेमाल कर पा रहे हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 जितेंद्र तोमर फर्जी डिग्री: साकेत कोर्ट के नोटिस ने भागलपुर में मचाई खलबली, TMB यूनिवर्सिटी के 17 स्टाफ तलब
2 राजनाथ सिंह पर बिफरे RJD चीफ- देखा कि लालू आ रहा है तो खुद मना कर दिया, पहले बताते तो नहीं हटानी पड़ती कुर्सी
3 फेसबुक, ट्विटर, व्हाटसअप पर भड़काऊ पोस्ट कॉपी, पेस्ट या फॉरवर्ड किया तो यूजर समेत ग्रुप एडमिन पर होगी कार्रवाई
यह पढ़ा क्या?
X