ताज़ा खबर
 

बिहार: JDU नेता पर कार्रवाई करने पर अधिकारी अरेस्ट तो प्रधान सचिव नाराज, लंबी छुट्टी पर गए

इस साल के अप्रैल माह से बिहार में मद्य निषेध लागू हुआ है और उसे लागू कराने में 1990 बैच के आईएएस अधिकारी पाठक की महत्वपूर्ण भूमिका रही है।

बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार। (फाइल फोटो)

भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के वरिष्ठ अधिकारी के के पाठक लंबे अवकाश पर चले गए हैं। ऐसी खबरें हैं कि पाठक ने बिहार में सत्ताधारी पार्टी जदयू के एक नेता के घर से शराब बरामद होने पर उनके खिलाफ कार्रवाई करने पर अपने विभाग के एक अवर निरीक्षक को गिरफ्तार किए जाने के विरोध में ऐसा किया है। पाठक गत बुधवार से अपने कार्यालय (बिहार उत्पाद एवं मद्य निषेध विभाग) नहीं जा रहे हैं। केके पाठक अभी बिहार में प्रधान सचिव के पद पर कार्यरत हैं। उन्होंने कहा कि उन्होंने सरकार से अपनी जगह किसी दूसरे विभाग के सचिव को तैनात करने को कहा है। अवर निरीक्षक की गिरफ्तारी पर कहा, ‘जो कुछ हुआ वह गलत है। यह गलत नजीर स्थापित करेगा।’

इस साल के अप्रैल माह से बिहार में मद्य निषेध लागू हुआ है और उसे लागू कराने में 1990 बैच के आईएएस अधिकारी पाठक की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। मीडिया में आई खबरों के मुताबिक बिहार उत्पाद एवं मद्य निषेध विभाग ने गत 30 अगस्त को नालंदा जिला के हरनौत प्रखंड के जदयू अध्यक्ष इंद्रजीत कुमार सेन उर्फ मोती सिंह के लोढा गांव स्थित घर से कथित रूप से शराब की बोतलें बरामद की थी।

Read Also: बिहार: कैमरे में कैद हुई शराब तस्करी की अनोखी तरकीब, सिलेंडर में भरी थी देशी शराब की थैली

बिहार में शराबबंदी के तहत गत अप्रैल महीने से अगस्त महीने तक की गई कार्रवाई के दौरान उत्पाद अधिनियम का उल्लंघन करने के मामले में कुल 4167 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया जा चुका है और उनके पास से भारत में निर्मित 11,679 लीटर विदेशी शराब और 92,291.47 लीटर देसी शराब जब्त की गई। बता दें, बिहार में इस साल अप्रैल में शराबबंदी लागू की गई थी। जिसके बाद से बिहार में शराब का सेवन करना और बेचना दोनों ही गैरकानूनी है। नीतीश सरकार की इस स्कीम की काफी तारीफ हुई थी। हालांकि, वहीं कुछ लोगों का कहना था कि इससे बिहार में रैवन्यू में कमी देखने को मिलेगी। जिसके जवाब में नीतीश कुमार ने कहा था कि इसकी भरपाई कहीं और से की जाएगी।

Read Also: Video: बिहार में शराब ले जाता मिला शख्स, लोगों ने पेड़ से बांधकर किया यह हाल

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App