ताज़ा खबर
 

पटना: शूटर ने किताबों के बीच छुपा कर रखी थी पिस्टल, चढ़ा पुलिस के हत्थे

पटना के बिहटा क्षेत्र में गुरुवार को देर शाम पुलिस वाहनों की चेकिंग कर रही थी। चेकिंग के दौरान पुलिस ने अंग्रेजी किताब में विदेशी पिस्टल छुपा के ले जा रहे लखीसराय के बडिहिया निवासी सौरभ कुमार को गिरफ्तार किया।

प्रतीकात्मक तस्वीर।

बिहार में हत्या के इरादे से निकले एक शूटर को पुलिस ने गिरफ्तार किया। पटना के बिहटा क्षेत्र में गुरुवार को देर शाम पुलिस वाहनों की चेकिंग कर रही थी। चेकिंग के दौरान पुलिस ने अंग्रेजी किताब में विदेशी पिस्टल छुपा के ले जा रहे लखीसराय के बडिहिया निवासी सौरभ कुमार को गिरफ्तार किया। पकडे के बाद पूछताछ में पुलिस को पता चला कि वो कुख्यात सोनू-मोनू गैंग का शूटर और सक्रिय सदस्य है। कई हत्याकांडो में उसकी भूमिका रही है। पुलिस ने बताया कि, सौरभ कुमार एक बिट्टू नाम के युवक की हत्या करने के इरादे से निकला था।

जानकारी के अनुसार, देर शाम चेकिंग के दौरान जब पुलिस ने सौरभ कुमार को रोका तो वह भाग निकलने की ताक में था, लेकिन पुलिस की मुस्तैदी से वो ऐसा नहीं कर पाया। तलाशी के दौरान जब उसके पास एक अंग्रेजी किताब मिली तो पुलिस को कुछ शक हुआ। पुलिस ने जब किताब के पन्ने पलटने शुरू किये तो उसके अंदर छिपा के रखी गयी विदेशी पिस्टल देख कर दंग  रह गयी। एसएसपी मनु महाराज के अनुसार पकड़ा गया सौरभ नौबतपुर के कुख्यात विपुल का शूटर है। विपुल के मारे जाने के बाद उसने गैंग की कमान खुद संभाल ली।

पुलिस ने बताया कि उन्हें पता चला कि सौरभ कुमार एक बिट्टू नाम के युवक की हत्या करने की साजिश रच रहा है। तभी पुलिस को मुख़बिर से सूचना मिली कि वह पटना से बिहटा अपने गुर्गों के साथ जा रहा था। पुलिस ने तत्काल बिहटा के पास चेकिंग अभियान शुरू कर दिया। सौरभ कुमार चेकिंग के दौरान पकडे जाने के बाद खुद को छात्र बता रहा था। पुलिस ने जब उसकी बैग खोली तो उसमे किताबो के बीच छुपा कर रखी गयी एक पिस्टल बरामद हुई।

इसके पहले भी बिट्टू नाम के युवक पर गोली चली थी। तब सौरभ के साथ विकास और चंदन ने ही गोली मार कर उसे घायल कर दिया था। तभी से इन दोनों के बीच जंग चल रही है। जिस कारण सौरभ फिर से उस पर हमला करने की फ़िराक में था।

सौरभ कुमार चेकिंग के दौरान पकडे जाने के बाद खुद को छात्र बता रहा था। पुलिस ने जब उसकी बैग खोली तो उसमे किताबो के बीच छुपा कर रखी गयी एक पिस्टल बरामद हुई। पकडे जाने के बाद जब पुलिस ने सौरभ का आपराधिक इतिहास खंगालना शुरू किया तो पता चला वो कुख्यात सोनू-मोनू गिरोह का शूटर है। पिस्टल से हमला करने के बाद वो ऐसे ही छात्र बन कर घूमता था। पुलिस को शक ना हो इसके लिए उसने किताबों को ही अपना पिस्टल रखने का अड्डा रखा था। फिलहाल पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App