ताज़ा खबर
 

बिहार: परिवार वाले 14 साल से लड़की समझ पाल रहे थे, टेस्‍ट हुआ तो लड़का निकला

परिवार के लोग अपने लड़के को लड़की समझ कर पिछले 14 सालों से पाल रहे थे। बाद में जब डॉक्टरों ने परीक्षण किया तो परिवार वालों हैरान रह गए क्योंकि वो जिसे लड़की समझ रहे थे दरअसल वो लड़का था।

प्रतीकात्मक तस्वीर।

बिहार से एक अजीबोगरीब घटना सामने आयी है। जहाँ एक परिवार के लोग अपने लड़के को लड़की समझ कर पिछले 14 सालों से पाल रहे थे। बाद में जब डॉक्टरों ने परीक्षण किया तो परिवार वाले हैरान रह गए क्योंकि वो जिसे लड़की समझ रहे थे दरअसल वो लड़का था। आईजीआईएमएस के जेनेटिक साइंस विभाग के डॉक्टरों ने एक लड़के में लड़की के विकृत अंग को तीन चरण में ऑपरेशन कर के सुधार दिया।

बिहार के जहानाबाद निवासी सुनील (काल्पनिक नाम) के परिवार वाले उसे लड़की समझ कर पिछले 14 सालों से उसका पालन-पोषण कर रहे थे। उसका पहनावा भी लड़कियों की तरह ही किया जा रहा था क्योंकि उसे स्तन, पेशाब का रास्ता लड़कियों की भांति ही था। हाइड्रोसील भी पेट के अंदर पाया गया। परिवार वालों ने उसका नाम भी सुमन (काल्पनिक नाम) रखा हुआ था। लेकिन काफी देर बाद जब परिवारीजनों को उसकी हरकतें लड़कों जैसी लगी तो उन्हें शक होने लगा। इसी शक को दूर करने लिए परिवार वाले उसे लेकर डॉक्टर के पास ले गए।

जब परिवार के लोगों ने आईजीआईएमएस में उसे दिखाया तो डॉक्टरों ने गहनता से जाँच की और पाया कि घर वाले जिसे लड़की समझ रहे है, असल में वो लड़का है। डॉक्टर विनीत कुमार का कहना है कि उसके शरीर की जेनेटिक और हार्मोनल जाँच की गयी उसी आधार पर पता चला कि वह पुरुष है और विकृत जननांग के कारण उसकी स्थिति लड़कियों जैसी दिखती थी। डॉक्टर विनीत ने कहा यदि किसी बच्चें में विकृत अंग दिखे तो उसे छुपाना नहीं चाहिए बल्कि उसका समुचित इलाज विशेषज्ञ डॉक्टर से करवाना चाहिए। इसके बाद डॉक्टरों की एक टीम ने तीन चरणों में उसका ऑपरेशन कर सुधार किया। भर्ती लड़के की स्थिति अभी सामान्य है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App