ताज़ा खबर
 

बिहार बेहाल: नालंदा मेडिकल कॉलेज के आईसीयू में तैर रहीं मछलियां, बेड पर सहमे बैठे मरीज

आईसीयू में जहां गंभीर हालत में मरीज भर्ती हैं और किसी भी तरह का संक्रमण उनके लिए खतरनाक हो सकता है, वहां बारिश का गंदा पानी मरीजों के लिए बेहद खतरनाक साबित हो सकता है।

पटना के नालंदा मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भरा बारिश का पानी। (PTI Photo)

मानसून की बारिश ने कई शहरों की जल निकासी व्यवस्था की पोल खोलकर रख दी है। बिहार की राजधानी पटना का भी बुरा हाल है। गलियों और सड़कों की बात छोड़ भी दें तो पटना के दूसरे सबसे बड़े सरकारी अस्पताल नालंदा मेडिकल कॉलेज में भी पानी भर गया है। यहां पूरे अस्पताल परिसर में घुटनों तक पानी भर गया है। हैरानी की बात है कि अस्पताल का आईसीयू भी पानी से लबालब भरा है और बाकायदा इस पानी में मछलियां तैरती दिखाई दे रही हैं। इस बदइंतजामी के बीच अस्पताल के डॉक्टर भी ऐसे ही हालात में मरीजों का इलाज करने को मजबूर हैं।

गौरतलब है कि आईसीयू में जहां गंभीर हालत में मरीज भर्ती हैं और किसी भी तरह का संक्रमण उनके लिए खतरनाक हो सकता है, वहां बारिश का गंदा पानी मरीजों के लिए बेहद खतरनाक साबित हो सकता है। बता दें कि अपनी बदइंतजामी के लिए मशहूर पटना का यह अस्पताल 100 एकड़ जगह में फैला और 750 बेड का अस्पताल है। अस्पताल में पानी भरे होने से जहां मरीजों और अस्पताल के स्टाफ को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है, वहीं मरीजों के साथ आए उनके परिजन भी इस हालात से बेहद परेशान हैं। गंदे पानी से भरे अस्पताल में मरीज जहां अस्पताल पर लेटे हैं, वहीं मरीजों के परिजनों ने शनिवार की पूरी रात पानी में खड़े होकर ही गुजारी है। फिलहाल अभी तक भी अस्पताल से पानी नहीं निकाला जा सका है।

Bihar (PTI Photo)

अस्पताल के उपाधीक्षक का कहना है कि अस्पताल से पानी निकालने का काम किया जा रहा है। अस्पताल में पानी भरने का कारण बताते हुए उपाधीक्षक ने बताया कि अस्पताल निचले स्थान पर है, इसलिए भारी बारिश के चलते अस्पताल में पानी भरा। पटना में पिछले 2 दिनों से हो रही भारी बारिश से जन-जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। पटना के कई इलाकों में पानी भर गया है। शहर की सड़कें पानी में डूब चुकी हैं और लोगों को बेहद परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

Bihar (PTI Photo)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App