ताज़ा खबर
 

बिहार: सरकारी कार्यक्रम में मंत्री की जगह एक्शन में दिखे उनके भाई, नीतीश कुमार बोले- अनजाने में हो गई गलती, मुझे नहीं था मालूम

बिहार विधानसभा में शुक्रवार को प्रश्नकाल समाप्त होने के तुरंत बाद राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के विधायक भाई वीरेंद्र ने मंत्री साहनी के भाई के बुधवार को वैशाली जिला मुख्यालय हाजीपुर के एक सरकारी कार्यक्रम में सरकारी वाहन से पहुंचने और उसका उद्घाटन करने की घटना को आपत्तिजनक बताया और मंत्री को तुरंत बर्खास्त किए जाने की मांग की।

Nitish Kumar, Mukesh Sahni, Biharबिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि मुकेश सहनी ने अपनी गलती मान ली है। (फोटोः Express Archive/ANI)

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने हाल में वैशाली जिले में संपन्न एक कार्यक्रम में पशु और मत्स्य संसाधन मंत्री मुकेश सहनी की अनुपस्थिति में उनके भाई को सरकारी प्रतिनिधि के रूप तरजीह दिए जाने संबंधी मीडिया में आयी खबरों पर शनिवार को पत्रकारों से कहा, “कुछ मामलों में हर किसी को सब कुछ पता नहीं होता है। इस बारे में उन्हें समझाया गया है। उन्हें अहसास हुआ और उन्होंने अपनी गलती कबूल ली है। यह सही नहीं है कि मंत्री की जगह पर आधिकारिक तौर पर कोई परिवार का या फिर पार्टी का सदस्य कहीं पर शामिल हो। वैसे, उन्होंने ऐसा जानकरबूझ कर नहीं किया। उन्हें इसके प्रभाव का अंदाजा नहीं था।”

JDU चीफ ने इससे पहले शुक्रवार को कहा था, ‘‘अगर ऐसा हुआ है तो यह नहीं होना चाहिए।’’ बिहार विधानसभा में शुक्रवार को प्रश्नकाल समाप्त होने के तुरंत बाद राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के विधायक भाई वीरेंद्र ने मंत्री साहनी के भाई के बुधवार को वैशाली जिला मुख्यालय हाजीपुर के एक सरकारी कार्यक्रम में सरकारी वाहन से पहुंचने और उसका उद्घाटन करने की घटना को आपत्तिजनक बताया और मंत्री को तुरंत बर्खास्त किए जाने की मांग की।

नीतीश ने राजद विधायक द्वारा उठाए गए इस मामले पर हस्तक्षेप करते हुए कहा, ‘‘अगर ऐसा हुआ है तो यह नहीं होना चाहिए था।’’ मुकेश सहनी उस समय सदन में मौजूद नहीं थे। मीडिया में आयी खबरों के अनुसार एससी-एसटी वर्ग के मत्स्य पालकों के बीच 90 प्रतिशत अनुदानित दर पर क्रय किए गए मोटर वाहन वितरण के पशु एवं मत्स्य विभाग के कार्यक्रम में 20 से अधिक लाभार्थियों को मुकेश सहनी के भाई और उनकी पार्टी विकासशील इंसान पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष संतोष सहनी ने चाबी सौंपी थी।

बिहार विधान परिषद स्थित मुख्यमंत्री के कक्ष में उनसे मुलाकात के बाद सहनी ने विपक्ष के आरोप को असत्य बताते हुए कहा कि ऐसा नहीं हुआ है। उन्होंने कहा, ‘‘मुझे उस कार्यक्रम में जाना था पर विधानमंडल का सत्र चलते रहने की वजह से वहां नहीं पहुंच पाया। मेरे विभाग के कार्यक्रम में मेरी पार्टी के नेता और कार्यकर्ता हमेशा मौजूद रहते हैं। उस कार्यक्रम में मेरे पहुंचने से पहले मेरे भाई पहुंचे थे और स्थानीय पदाधिकारियों ने उन्हें विशेष महत्व दिया। जानबूझकर ऐसा नहीं किया गया। अंजाने में ऐसा हुआ। भविष्य में ऐसा ना हो मैं इसका ध्यान रखूंगा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘यह अगर लोगों को गलत लगा हो तो उसके लिए मैं खेद भी प्रकट करता हूं।’’ (भाषा इनपुट्स के साथ)

Next Stories
1 उत्तराखंड में सियासी हलचलें तेज! BJP हाईकमान ने सूबे में भेजे 2 ऑब्जर्वर
2 बंगालः ममता के करीबी रहे दिनेश त्रिवेदी बने भाजपाई, नड्डा बोले- अब सही आदमी सही दल में आया
3 टीवी डिबेट में गर्माया माहौल तो खड़े हो चीखने लगे पैनलिस्ट, भाजपा नेता से बोलीं SP की नेता- कवि सम्मेलन है क्या?
ये पढ़ा क्या?
X