ताज़ा खबर
 

चपरासी से हुआ प्रमोशन तो और मांगने लगा दहेज, नहीं मिला तो पत्नी के कर दिए 12 टुकड़े

परिवारवालों का कहना है कि इसी सोमवार को उन्होंने हिलसा थाने में काजल के पति, ससुर समेत 7 के खिलाफ नामजद केस किया, पर पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। हालांकि पुलिस ने मामले में छापेमारी की बात कही है।

बिहार के नालंदा जिले में सामने आया दहेज हत्या से जुड़ा केस। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

बिहार में दहेज हत्या से जुड़ा एक दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है। यहां चपरासी से प्रमोट होकर टीटीई बने एक पति ने छह लाख के अतिरिक्त दहेज के लिए पति ने अपनी गर्भवती पत्नी पर दबाव बनाया। लेकिन जब उसकी मांग पूरी नहीं हुई, तो उसने पत्नी को कुदाल से काट डाला। यह घटना नालंदा जिले के हिलसा थाना क्षेत्र के नोनिया बिगहा गांव की है। दहेज हत्या का शिकार हुई महिला के परिवारवालों का आरोप है कि इस मामले में पुलिस ने भी कोई ठोस कार्रवाई नहीं की।

क्या है पूरा मामला?: बताया गया है कि पिछले साल जून में रेलवे के चतुर्थ वर्ग के कर्मचारी संजीत की पटना की रहने वाले काजल से शादी हुई थी। संजीत का हाल ही में टीटीई के लिए प्रमोशन हुआ। इसके बाद उसके परिवारवालों ने काजल के परिवार से छह लाख रुपए दहेज में देने का दबाव बनाने लगे। लड़की के परिवारवालों का कहना है कि ससुराल वाले काजल के साथ मारपीट कर रहे थे। अब उन्होंने उसकी हत्या कर दी।

नीतीश के ‘जनता-दरबार’ में निकले लोगों के आंसू, बोले- बहुत दूर से आए हैं: VIDEO

हत्या के बाद फरार हो गए ससुरालवाले: काजल के परिवारवालों का आरोप है कि ससुरालवालों ने गर्भवती काजल को कुदाल से 12 टुकड़ों में काटा और फिर शव जलाने का प्रयास किया। बाद में घर से करीब 400 मीटर दूर टुकड़ों में बंटे शव को दफन कर दिया। काजल के परिजनों ने इस मामले में पुलिस पर भी लापरवाही का आरोप लगाया है।

मृतक लड़की के भाई ने बताया कि 17 जुलाई की रात को उसकी आखिरी बार बहन से बात हुई। उसके बाद से ही मोबाइल बंद था। 18 जुलाई को पिता ने काजल, उसके पति व ससुर से बात करने की कोशिश की, पर सबके मोबाइल बंद थे। 19 जुलाई को वे काजल की ससुराल गए। वहां से सभी फरार थे। तभी हत्या का शक हुआ।

परिजनों को खुद ही ढूंढना पड़ा शव, पुलिस लीपापोती में जुटी: परिवारवालों का कहना है कि इसी सोमवार को उन्होंने हिलसा थाने में काजल के पति, ससुर समेत 7 के खिलाफ नामजद केस किया, पर पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। इसके बाद वे बुधवार को नोनिया बिगहा गांव गए। जहां शव दफन था, वहां पहुंचे और जमीन खोदकर टुकड़ों में बंटी लाश ढूंढ़ी। उसे थैले में जमा किया। इधर काजल का शव मिल जाने के बाद अब पुलिस अपने ढीले रवैये पर पर्दा डालने की कोशिश में जुट गई है। हिलसा के थानेदार श्याम किशोर सिंह के मुताबिक, मामले की छानबीन हो रही है। नामजदों को गिरफ्तार करने के लिए छापेमारी की जा रही है।

Next Stories
1 बीजेपी प्रवक्ता शाइना एनसी बोलीं- ऑक्सीजन की कमी से कोरोना मौतों पर सरकार का पक्ष दुरुस्त, देखें उनकी दलीलें
2 जब कोरोना से हुई मौतों पर सदन में बोलने लगे मनोज झा, भावुक हो गए लोग, सोशल मीडिया पर की जमकर तारीफ़
3 सोनिया गांधी ही बनी रहेंगी कांग्रेस की अध्यक्ष? गुलाम नबी और सचिन पायलट को मिल सकता है अहम पद
आज का राशिफल
X