X

बकाए के लिए बंधक बनने पर जब नशेड़ी ने शराब दुकानदार को बेच दी अपनी बीवी

बिहार में जिस महिला की उसके पति ने बोली लगा थी, आज वो महिला शराबंदी की मुहिम का एक चेहरा बन गई है। शराब की लत के शिकार पति ने अपनी बीवी को उस दुकानदार को बेच दी थी, जो उधार में शराब पिलाता था।

बिहार में जिस महिला की उसके पति ने बोली लगा थी, आज वो महिला शराबंदी की मुहिम का एक चेहरा बन गई है। शराब की लत के शिकार पति ने अपनी बीवी को उस दुकानदार को बेच दी थी, जो उधार में शराब पिलाता था। पैसे बकाए होने पर जब दुकानदार ने बंधक बनाया तो उसने धोखे से पत्नी को बुलाकर दुकानदार के हवाले कर दिया। घटना बिहार के शेखपुरा प्रखंड स्थित वीरपुर गांव की है।

गांव की सुदामा देवी को सिर्फ पांच सौ रुपये के लिए पति ने शराब दुकानदार को बेच दिया।भनक लगने पर गांववालों ने किसी तरह दुकानदार के कब्जे से सुदामा देवी को छुड़ाया।दैनिक भाष्कर की रिपोर्ट के मुताबिक सुदाामा का पति काफी समय से शराब पीता है।माली हालत खराब होने पर भी उसने शराब पीना नहीं छोड़ा। पैसे न होन पर घर का सामान बेचकर भी शराब पीने लगा। जब कोई सामान नहीं बचा तो वह उधार पीने लगा। पति की इस हरकत से सात बच्चों को पालने में सुदामा काफी परेशानी महसूस करने लगीं। वह मायके चली गई। इस पर पति ने मान-मनौव्वल की तो सुदामा घर लौटी। आरोप के मुताबिक एक दिन पति घर नहीं लौटा तो वह खोजने के लिए निकलीं। आशंकावश ठेके पर जाकर देखा तो वहां दुकानदार ने पति को बंधक बनाकर रखा था।

पत्नी के ठेके पर पहुंचते ही पति ने दुकानदार से कहा कि उसे छोड़ दे और पत्नी को अपने पास रख ले। सुदामा के मुताबिक उसके पति ने पांच सौ रुपये में उसका सौदा कर दिया। किसी तरह जब इसकी जानकारी गांववालों को हुई तो वे ठेके पर पहुंचे और महिला को किसी तरह छुड़ाने में सफल साबित हुए। इस घटना के बाद से सुदामा ने इलाके में शराबबंदी की मुहिम छेड़ दी। मुहिम में गांव और आसपास की महिलाएं भी शामिल हुईं हैं। सभी महिलाओ ने मिलकर गुलाब जीविका स्वयं सहायता भी खोला। अब नशे के खिलाफ जागरूकता फैलाने के साथ आजीविका की दिशा में काम कर रहीं हैं।